दमोह- 45 साल की उम्र में 16 वीं संतान को दिया जन्म, जच्चा-बच्चा दोनों की मौत

दमोह (damoh) 45 वर्ष की उम्र में एक महिला ने अपनी 16 वीं संतान (16th child) को दिया, जिसके बाद हालत नाजुक होने के कारण जच्चा-बच्चा दोनों को ही प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (primary health centre) लाया गया। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लेने जाने के रास्ते में दोनों की मौत (death) हो गई।

gave birth to 16th child at the age of 45, death of both mother and child in damoh

दमोह, गणेश अग्रवाल। दमोह (damoh) जिले के बटियागढ़ थानांतर्गत ग्राम पाडाझिर में एक 45 वर्ष की महिला द्वारा शनिवार को प्रसव के उपरांत (post delivery) अपने 16 में बच्चे को जन्म दिया गया, लेकिन महिला की गंभीर हालत होने पर उसे तत्काल ही प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (Primary Health Centre) लाया गया, जहां रास्ते में ही महिला एवं नवजात की मौत हो गई।

जानकारी के अनुसार जिले के बटियागढ़ तहसील अंतर्गत ग्राम पाड़ाझिर निवासी सुखरानी पत्नी दुल्ला अहिरवार 45 वर्ष द्वारा शनिवार को प्रसव के उपरांत 16 वें बच्चे को जन्म दिया। लेकिन प्रसव के दौरान गंभीर हालत के चलते परिजन उसे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हटा लाए, जहां रास्ते में ही महिला सुखरानी एवं नवजात दोनों की मौत हो गई।

ये भी पढ़े – कछपुरा ब्रिज के नीचे मिली लाश, शरीर पर चोट के निशान, पुलिस जांच में जुटी

बताया गया है कि महिला सोलहवीं बार मां बनी थी। महिला कि पहले की 15 संतानों में से मात्र 4 लड़के और 4 लड़कियां जीवित हैं, जबकि 7 बच्चों की मौत हो चुकी है। वही इसमें दो संतानों का विवाह भी हो चुका है। लेकिन फिर भी मां बनने की जिद में एक परिवार में खुशियों के स्थान पर मातम की स्थिति ला दी।

इस संबंध में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ संगीता त्रिवेदी (Health Officer Dr. Sangeeta Trivedi) का कहना है कि शासन की इतनी योजनाओं के बाद भी अभी तक महिला का परिवार नियोजन ना होना जांच का विषय है और इसमें जांच कराई जाएगी, जो भी दोषी होगा उस पर तत्काल कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here