दमोह पुलिस थाने में उपद्रव करने वाले तीन आरोपी गिरफ्तार, भेजे जेल

पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है जिन्हें कोर्ट में शाम को पेश किया गया और वहां से उनको जेल भेज दिया गया हैं। पकड़े गए तीनों आरोपियों को पॉलिटिकल कनेक्शन भी हैं। 

Amit Sengar
Published on -
arrest

Damoh News : मध्य प्रदेश के दमोह जिले में शनिवार की रात पुलिस थाने में वर्ग विशेष के लोगों द्वारा हंगामा करने के साथ थाना परिसर में आपत्तिजनक नारेबाजी और भड़काऊ भाषण देने के मामले में  पुलिस ने 40 लोगों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया था और आज जब प्रदेश सरकार ने सख्त निर्देश दिए तो मामले में गर्मी बढ़ गई है। मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने ट्वीट कर कहा कि मामले में सख्त कार्रवाई होगी और इसके निर्देश भी दिए हैं तो दमोह के कलेक्टर ने इसकी मजिस्ट्रियल जाँच के आदेश दिए हैं।

क्या है पूरा मामला

बडी खबर ये है कि दमोह पुलिस ने जिन 40 लोगों के खिलाफ मामला कायम किया है उनमें से तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। देर शाम दमोह के एसपी सुनील तिवारी ने जानकारी देते हुए बताया हैं कि तीन आरोपी अकरम राइन, मुबीन कुरेशी और जीशान पठान को गिरफ्तार किया गया है जिन्हें कोर्ट में शाम को पेश किया गया और वहां से उनको जेल भेज दिया गया हैं। पकड़े गए तीनों आरोपियों को पॉलिटिकल कनेक्शन भी हैं।

भाजपा कांग्रेस और बीएसपी नेता है तीनों वर्ग विशेष के आरोपी

पहला और मुख्य आरोपी अकरम राइन है जो कि भड़काऊ भाषण दे रहा था और वीडियो में हरी शर्ट पर दिख रहा है हाँथ और सर काटने की धमकी दे रहा है। अकरम बहुजन समाज पार्टी से जुड़ा हुआ है और बीते नगर पालिका चुनाव में निर्दलीय रूप से पार्षद का चुनाव भी लड़ चुका है। दूसरा आरोपी मुबीन कुरेशी है, मुबीन भाजपा का नेता है और भाजपा अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ का दमोह मंडल का अध्यक्ष भी है जबकि तीसरा आरोपी जीशान पठान कांग्रेस नेता होने के साथ साथ कांग्रेस से ही दमोह के फुटेरा वार्ड से पार्षद प्रतिनिधि है। इन तीनो पर पुलिस ने आई पी सी की धारा 153 क 147,148,149 के तहत मामला दर्ज किया था वहीं जब अकरम की गिरफ्तारी हुई तक उसके पास से अवैध हथियार भी बरामद हुआ है जिस पर धारा 25/ 27 आर्म्स एक्ट भी लगाया गया है। इस मामले में अभी पुलिस और आरोपियों की भी तलाश है।

दमोह से दिनेश अग्रवाल की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News