कोरोना : हाथ टूटने के बावजूद सेवा में लगे हैं डॉ. टाइगर, मप्र राज्य दन्त परिषद ने किया सम्मान

सेवढ़ा जिले के डॉ. टाइगर यादव एक हाथ हाथ टूटने के बावजूद कोरोना काल में इंदौर में मेडिकल ऑफिसर के रूप में सेवा दे रहे हैं। जिसको देखते हुए मप्र राज्य दन्त परिषद ने उनका सम्मान किया।

सेवढ़ा, राहुल ठाकुर। दतिया जिले के सेवढ़ा निवासी डॉ. टाइगर यादव मेडिकल ऑफिसर के रूप में अपनी सेवाएं इंदौर में दे रहे हैं। कार्य करते वक्त सीएमएचओ ऑफिस में धक्का लगने से एक हाथ टूट गया था, लेकिन कोरोना (Covid-19) की दूसरी लहर में उन्होंने बिना छुट्टी लिए ही अपने दूसरे हाथ को हथियार बनाकर योद्धा की तरह लोगों की देखभाल की। जिसको देखते हुए डॉ टाइगर यादव को कई समाज सेवी संस्थाओं ने उनके इस जज्बे को देखकर सम्मानित किया है। जहां मध्यप्रदेश राज्य दन्त परिषद द्वारा डॉक्टर का सम्मान किया गया।

यह भी पढ़ें:-बैतूल : 104 वर्षीय बुजुर्ग ने महज 10 दिन में जीती कोरोना से जंग, सीएम ने दी शुभकामनाएं

डॉ टाइगर यादव का लालन पालन सेवढ़ा में हुआ, उनके पिता सुनील यादव सेवढ़ा तहसील कार्यालय में चपरासी के पद पर हैं। मेडिकल ऑफिसर ने पिछले कोरोना काल में अपनी कड़ी मेहनत और कार्यशैली को लेकर कुछ अलग ही छाप छोड़ी थी और जगह-जगह इनका सम्मान भी हुआ था। इसी सम्मान की कड़ी में मध्यप्रदेश राज्य दन्त परिषद द्वारा कोरोना योद्धा सेवा सम्मान प्रशस्ति पत्र दिया गया और उनके सम्मान में सभी इष्ट मित्रों ने उन्हें फोन पर बधाई दी। डॉ टाइगर यादव की अच्छी लगन और मेहनत ने इंदौर के जनमानस का दिल जीत लिया और वर्तमान में होम आइसोलेटेड वार्ड, कोविड केअर सेंटर में मरीजो से वीडियो कॉल के माध्यम से उचित देखभाल व उनकी तकलीफों का निवारण के कार्य संभाल रहे हैं।