Bhojshala Survey: धार भोजशाला ASI सर्वे का 87वां दिन, खंभे-दीवारों के अवशेष और शिलालेख का टुकड़ा मिला, जानें डिटेल

भोजशाला में एएसआई सर्वे का काम 27 जून तक चलेगा। केन्द्रीय पुरातत्व विभाग द्वारा 4 जुलाई को हाई कोर्ट में रिपोर्ट पेश की जाएगी।

Manisha Kumari Pandey
Published on -
bhojshala survey

Bhojshala Survey: रविवार को धार भोजशाला सर्वे का 87वां दिन पूरा हुआ। इस दौरान हिन्दू और मुस्लिम पक्षकार भी मौजूद रहें। सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। सर्वेक्षण का कार्य सुबह 8 बजे ही शुरू हुआ था। हिन्दू पक्ष के गोपाल शर्मा ने बताया कि 16 जून को दिनभर गर्भगृह के उत्तरी पूर्व दिशा में उत्खनन और मिट्टी हटाने का काम चला है। इस दौरान तीन  दीवार और खंभों के अवशेष प्राप्त हुए है।  एक शिलालेख का टुकड़ा भी मिला।आज अंदर गर्भगृह में फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी चली। पुराने अवशेषों की फोटोग्राफी हुई।

मुस्लिम पक्ष ने दी ये जानकारी

मुस्लिम पक्ष की ओर से अब्दुल समद ने कहा कि उत्तरी भाग में जहां लेवली का काम चल रहा था, वहाँ कुछ पिलर और पार्ट्स रखे थे। जिसे शिफ्ट करने का कार्य भी जारी रहा। इसके अलावा अंदर तीन लेयर थी उस पर मिट्टी डालने का काम भी चला।

4 जुलाई को होगी हाई कोर्ट में सुनवाई

बता दें कि भोजशाला में एएसआई सर्वे का काम 27 जून तक चलेगा। सर्वे कार्य में 16 अधिकारी और 28 मजदूर और कर्मचारी शामिल हैं। केन्द्रीय पुरातत्व विभाग द्वारा 4 जुलाई को हाई कोर्ट में रिपोर्ट पेश की जाएगी। सर्वेक्षण का कार्य 22 मार्च से ही चल रहा है।

86वें दिन मिले थे दो प्रतीक चिन्ह

शनिवार यानि सर्वे के 86वें दिन भी उत्तरी भाग में मिट्टी के भराव का काम चल रहा था। इस दौरान दो प्रतीक चिन्ह प्राप्त हुए, जिसे एएसआई ने संरक्षित कर लिया है। खुदाई के दौरान की गई ट्रेंच को बंद किया गया। खंभों की वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी का काम चला। टीम की एक टुकड़ी द्वारा कमाल मौलाना परिसर में सरस्वती कूप में भी फोटोग्राफी की गई थी।

धार से मो. अंसार की रिपोर्ट


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News