Dhar News : आधार केंद्र खोलने के लिए मांगी 40 हजार की रिश्वत, लोकायुक्त पुलिस ने जिला प्रबंधक और जिला समन्वयक को रंगे हाथ गिरफ्तार किया

आवेदक विजय कुमावत ने रिश्वर की राशि जैसे ही जिला प्रबंधक अरविंद वर्मा एवं जिला समन्वयक रवि गहलोत को दी बाहर पहले से तैयार लोकायुक्त की टीम ने उन्हें रंगे हाथ दबोच लिया।

Atul Saxena
Published on -
Lokayukta

Dhar News : भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रदेश में जारी लगातार एक्शन के बाद भी रिश्वतखोरी कम नहीं हो रही, आज एक बार फिर लोकायुक्त पुलिस ने दो भ्रष्ट शासकीय सेवकों को रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है, आरोपियों के कब्जे स रिश्वत की राशि बरामद की गई है, उनके खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं में प्रक्रंपंजिबद्ध किया गया है।

दो रिश्वतखोर शासकीय सेवक रंगे हाथ गिरफ्तार 

इंदौर लोकायुक्त टीम ने आज बुधवार को धार में संचालित ई – गवर्नेंस के सीएससी सेंटर छापा मारकर दो रिश्वतखोर शासकीय सेवकों को गिरफ्तार किया है, लोकायुक्त पुलिस के मुताबिक धार जिले की बरमंडल तहसील सरदारपुर के रहने वाले विजय कुमावत ने एक शिकायती आवेदन लोकायुक्त एसपी इंदौर कार्यालय में दिया था।

आधार केंद्र खोलने के बदले मांगी रिश्वत

आवेदन में शिकायत की गई थी कि आवेदक ने आधार केंद्र खोलने के लिए आवेदन दिया था जो स्वीकृत हो गया था उसे आधार केंद्र संचालित करने के लिए कंप्यूटर , प्रिंटर , बायोमैट्रिक मशीन आदि मिलना था जिसके लिए जिला प्रबंधक अरविंद वर्मा एवं जिला समन्वयक रवि गहलोत द्वारा उससे 40 हज़ार रुपये रिश्वत राशि की माँग की जा रही है।

लोकायुक्त ने आज की ट्रेप की कार्रवाई 

शिकायत के बाद लोकायुक्त ने इसका सत्यापन कराया और सही पाए जाने पर ट्रेप की प्लानिंग की, लोकायुक्त ने आवेदक विजय को एक टेप रिकॉर्डर दिया और जब वो मिलने के लिए गया दोनों कर्मचारियों ने बतौर एडवांस 5 हजार रुपये ले लिए और रिश्वत की बाकि बाद में दिए जाने पर मंजूरी दे दी।

लोकायुक्त पुलिस इंदौर की टीम ने रंगे हाथ पकड़ा  

आज इंदौर लोकायुक्त की टीम ने आवेदक को सीएससी सेंटर पर तय क़िस्त 15 हजार रुपये लेकर भेजा, आवेदक विजय कुमावत ने रिश्वर की राशि जैसे ही जिला प्रबंधक अरविंद वर्मा एवं जिला समन्वयक रवि गहलोत को दी बाहर पहले से तैयार लोकायुक्त की टीम ने उन्हें रंगे हाथ दबोच लिया।

धार से मो अंसार की रिपोर्ट 


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News