धार में युवा मोर्चा मंडल अध्यक्षों की जारी सूची को रोकने के मामलें ने पकड़ा तूल, लगे आरोप

धार, डेस्क रिपोर्ट। धार में युवा मोर्चा की मण्डल अध्यक्षों की जारी सूची के मामलें में नाराज कार्यकर्ताओ ने पार्टी के भोपाल और इंदौर के वरिष्ठ नेताओं से इसकी शिकायत की है, उन्होंने कहा कि मेहनत और लगातार मैदान में काम करने के बावजूद उन्हे दरकिनार किया गया और उन लोगों को इस सूची में जगह दी गई जो सिर्फ नाम के कार्यकर्ता है, सूची जारी होने के महज 4 घंटे बाद इसे रोकने के मामलें ने तूल पकड़ लिया है। नाराज कार्यकर्ताओ ने सूची में जगह न मिलने से पार्टी छोड़ने तक की चेतावनी दे डाली है। हालांकि धार में बीजेपी के नेता इसे कार्यकर्ताओ की आपसी मनमुटाव बता रहे है। लेकिन वही इस मामलें से पार्टी की अंतर्कलह सामने आई।  खुद धार भाजपा युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष ने भी भोपाल में अपनी बात रखते हुए सूची रोकने पर नाराजगी जताई है।

यह भी पढ़ें… पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के मद्देनजर SUV बहुत ही जल्द CNG वर्जन लॉन्च कर सकती है, यह रही पूरी लिस्ट

गौरतलब है कि धार के भाजपा युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष की 24 मंडल अध्यक्षो की घोषणा की सूची पर महज कुछ घंटों बाद ही भाजपा जिला अध्यक्ष ने रोक लगा दी। दरअसल मामला शनिवार देर शाम का है, जब धार जिले के युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष जयसूर्या ने जिले 24 मंडल अध्यक्षों के नामो की घोषणा करते हुए सूची जारी की, जिसके बाद यह सूची विवादों में आ गई, सूची जारी होते ही नाराज कार्यकर्ताओ ने इसकी शिकायत इंदौर से लेकर भोपाल तक के बीजेपी के नेताओं से कर दी, हालांकि सूची जारी होने और फिर इसे रोकने के मामलें में के जिसके बाद तुरंत सूची रोकने का आदेश जिला अध्यक्ष राजीव यादव को को मिला और उसके बाद सूची रोक दी गई, इधर सूची जारी होने के बाद जिन कार्यकर्ताओ का नाम सूची में था उन्हें बधाई देने और मिठाई खिलाने वालो का तांता लग चुका था, हालांकि इस पूरे मामले में बताया जा रहा है कि धार युवा मोर्चा अध्यक्ष ने सूची को लेकर वरिष्ठ नेताओं से चर्चा नही की थी, जारी सूची पर बीजेपी के युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष ने भी आपत्ति ली, भोपाल से आये फ़ोन के बाद सूची को रोक लिया गया, और सोशल मीडिया पर इसकी जानकारी दी गई, जिसमें बताया गया कि जल्द ही नई सूची जारी की जाएगी, सूची रोकने के पीछे कारण बताया जा रहा है कि भाजपा प्रदेश संगठन के अनुसार सूची को आगामी आदेश तक रोका गया है। धार जिले में 35 मंडल अध्यक्ष है जिसमें 24 मंडलों की घोषणा की गई थी, लेकिन अंतर्कलह के चलते जारो सूची रोकनी पड़ी।