IPO के नाम पर ठगी करने वाली ऑनलाइन गैंग सक्रिय, रहें सावधान, ग्वालियर में ठग लिए साढ़े तीन करोड़ रुपये

व्यवहार में अंतर देखकर पहली बार जितेन्द्र को लगा कि कोई गड़बड़ तो नहीं है। जितेन्द्र को लगा कि शायद बैंक से कोई मदद हो जाए यह सोचकर वह आईसीआईसीआई बैंक गया। बैंक जाते ही उनका जोर का झटका लगा,  आईसीआईसीआई बैंक के अफसरों ने कहा कि यह तो हमारा एप है ही नहीं, उन्होंने कहा कि यह तो कोई डुप्लीकेट एप है और आपके साथ फ्रॉड हो गया है। तब जितेन्द्र को एहसास हुआ कि मेरे साथ बड़ी धोखाधड़ी हो गई है।

Atul Saxena
Published on -
Online Fraud

Fraud in the name of IPO in Gwalior : ऑनलाइन ठगी करने वाले लोग अब ऐसे लोगों को भी निशाना बन रहे हैं जो शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करने में रुचि रखते हैं, ग्वालियर में ऐसी ही एक ठगी हुई है, व्हाट्स एप ग्रुप के मैसेज के आधार पर  एक व्यकरी ने IPO में 27 लाख रुपये से ज्यादा इन्वेस्ट किये, फायदा हुआ तो दूसरे IPO में लगा दिए, पैसा बढ़कर साढ़े तीन करोड़ हुआ तो कुछ नहीं मिला, अब व्यक्ति पुलिस के चक्कर लगा रहे हैं।

व्हाट्स एप पर भेजा लिंक 

जानकारी के मुताबिक ग्वालियर के महाराजपुरा थाना क्षेत्र के शताब्दीपुरम में रहने वाले जितेन्द्र तिवारी व्यापारी हैं 4 फरवरी को उनके मोबाइल के व्हाट्सएप पर ICICI सिक्युरिटीज NSE BSE 302 नामक ग्रुप से एक लिंक आई, चूँकि उनका एकाउंट भी ICICI बैंक में ही है इसलिए उन्होंने ग्रुप को ज्वाइन कर लिया और फिर उनके पास शेयर से संबंधित मैसेज आने लगे।

Continue Reading

About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....