खबर का असर: पानी के टैंक में नहाने का मामला, ग्वालियर निगम के 3 कर्मचारियों पर गिरी गाज

ग्वालियर

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ग्वालियर (Gwalior) सागरताल के समीप स्थित राजीव आवास योजना आवासों के लिए पेयजल सप्लाई टैंक (पानी की टंकी) में मासूमों के नहाने के मामले में ग्वालियर नगर निगम कमिश्नर (Gwalior Municipal Corporation Commissioner) ने एक्शन लेते हुए तीन कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त कर दी हैं। सोशल मीडिया (Social Media) पर बच्चों के नहाते वायरल वीडियो (Video Viral) की खबर को एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ (MP Breaking News) ने प्रमुखता से दिखाया था।

Gwalior News: निगम की बड़ी लापरवाही, पेयजल टैंक में नहाते मिले मासूम, VIDEO VIRAL

खबर प्रसारित होने के बाद ग्वालियर नगर निगम आयुक्त शिवम वर्मा ने अधीक्षण यंत्री आर एलएस मौर्य को मौके जांच के निर्देश दिये। निगम अधिकारी ने जांच के बाद बताया कि असामाजिक तत्वों द्वारा पानी के टंकी (संपबेल) के इंस्पेक्शन चेंबर का ताला तोड़ दिया था । विभागीय अधिकारी कर्मचारियों द्वारा देखा गया कि पीने के पानी के संपबैल का ताला टूटा हुआ है।

इस कारण संदेह को दूर करने के लिए उसमें भरे हुए पानी की सफाई की जा रही थी। सफाई करने के दौरान मोहल्ले के लड़के जहां पर अक्सर खेलते रहते हैं , अपने कपड़े उतार कर सफाई के दौरान सीढियों के माध्यम से नीचे उतर गए। जो कि वहां कार्य कर रहे कर्मचारियों की लापरवाही थी।

यह भी पढ़े.. रंगपंचमी पर MP में टूटे सारे रिकॉर्ड, 2777 नए कोरोना पॉजिटिव, 16 ने तोड़ा दम

मौर्य ने बताया कि निरीक्षण उपरांत संपवेल की सफाई की जा कर ब्लीचिंग पाउडर से धुलाई कर उस में पानी भरा जा रहा है एवं उस संपबैल के टूटे हुए तालों को ठीक कर व्यवस्था सुदृढ़ की गई है। इसके साथ ही निगमायुक्त श्री वर्मा से अनुरोध कर वहां के लिए 3 चौकीदार स्थाई रूप से रखने के लिए स्वीकृति मौखिक स्वीकृति प्राप्त कर ली गई है।

निगम अधिकारी ने कहा कि संपबैल के अंदर बच्चे नहाने जैसी कोई बात नहीं थी, केवल सफाई के दौरान कुछ बच्चे उसमें उतरते दिखाए गए हैं जो कि वहां के कर्मचारियों की लापरवाही है । उस संपबेल पर जो तीन कर्मचारी उसकी संचालन के लिए रखे गए हैं, उन तीनों कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त करने के निर्देश निगम आयुक्त शिवम वर्मा द्वारा दिए गए हैं।

यह भी पढ़े.. MP School 2021: कक्षा 1 से 8वीं के लिए Whatsapp पर आएगी शिक्षण सामग्री, ऐसे होगा मूल्यांकन

आपको बता दे कि पेयजल सप्लाई टैंक वाला क्षेत्र प्रतिबंधित क्षेत्र में आता है। चूंकि यहाँ से लोगों के घरों में पीने के पानी की सप्लाई की जाती है इस लिहाज से ये संवेदनशील क्षेत्र भी है यहाँ सुरक्षा चौकस होनी चाहिये । लेकिन बच्चों को नहाते देखकर यहाँ की सुरक्षा व्यवस्था की हकीकत समझ में आती है ।वायरल वीडियो (Viral Video) में दिख रहे बच्चे कुछ टैंक के ऊपर हैं तो कुछ टैंक के अंदर नहा रहे हैं। इनकी संख्या 10-12 दिखाई दे रही है।

खास बात ये है कि बच्चों ने टैंक में टिल्लु पंप भी लगा रखा है। वीडियो दिन के समय का दिखाई दे रहा है। ऐसे समय पर तो यहाँ तैनात कर्मचारी मौजूद होना चाहिए। लेकिन लापरवाही देखिये कि बच्चों को रोकने टोकने वाला कोई नहीं है । वायरल वीडियो देखकर ये कहने में संदेह नहीं होना चाहिए कि ऐसी लापरवाही कभी भी बड़े हादसे को आमंत्रण दे सकती है।