VIDEO: बच्चों से बोले सीएम शिवराज- मम्मी पापा पास नहीं तो अब मामा है तुम्हारे साथ

सीएम शिवराज ने उनकी शिक्षा, आवास एवं अन्य समस्याओं के निराकरण का आश्वासन दिया एवं जिला प्रशासन को अन्य विभागीय योजनाओं का लाभ भी प्राथमिकता से इन बाल हितग्राही परिवारों को देने के निर्देश दिए।

सीएम शिवराज सिंह

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। महिला एवं बाल विकास विभाग (Women and Child Development Department)  द्वारा संचालित मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना का आज रविवार को सीएम शिवराज सिंह चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शुभारंभ किया । इस मौके पर उन्होंने बच्चों के एकाउंट में राशि भी ट्रांसफर भी की। सीएम शिवराज ने ग्वालियर के हितग्राही बच्चों से बात करते हुए उनसे उनकी पढाई और सपनों की बात की। सीएम शिवराज ने कहा कि आज कोरोना के कारण आपके मम्मी पापा आपके पास नहीं है लेकिन चिंता करने की जरूरत नहीं हैं मैं हूँ आपका मामा आपके साथ है।

यह भी पढ़े.. मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना: छात्रों को लेकर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने की बड़ी घोषणा

सीएम शिवराज सिंह (CM Shivraj Singh Chauhan) ने मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना (Chief Minister Covid-19 Child Welfare Scheme) के पात्र हितग्राही बच्चों को राशि का वितरण आज 30 मई 2021 को वर्चुअल समारोह किया। जिसमें ग्वालियर जिले के 21 बाल हितग्राहियों को लाभान्वित किया गया है। राशि वितरण कार्यक्रम मुख्यमंत्री निवास में वीसी के माध्यम से हुआ । खास बात ये है कि इसमें ग्वालियर जिला प्रदेश में सर्वाधिक 21 प्रकरण के साथ प्रथम स्थान पर रहा ।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में ग्वालियर जिले से हजीरा क्षेत्र एवं पुरानी छावनी क्षेत्र के बाल हितग्राहियों से सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बात की । सीएम शिवराज ने उनकी शिक्षा, आवास एवं अन्य समस्याओं के निराकरण का आश्वासन दिया एवं जिला प्रशासन को अन्य विभागीय योजनाओं का लाभ भी प्राथमिकता से इन बाल हितग्राही परिवारों को देने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने बच्चों से कहा कि आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है मैं हमेशा आपके साथ हूँ।

यह भी पढ़े.. LIC Policy: हर दिन 160 रुपये की बचत से पा सकते है 23 लाख, यहां देखें पूरी डिटेल्स

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में कोरोना के कारण बच्चों के सर से माता-पिता का साया उठ गया है। ऐसे बच्चों की तत्काल सहायतार्थ मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना को प्रदेश में लागू किया गया है। योजना का मुख्य उद्देश्य कोविड-19 से अनेक परिवारों के बच्चों को आर्थिक एवं खाद्य सुरक्षा प्रदान करना है, जिससे वे गरिमापूर्ण जीवन निर्वाह करते हुए अपनी शिक्षा भी निर्विघ्न रूप से पूरी कर सकें। कोविड-19 से मृत्यु का अभिप्राय ऐसी किसी भी मृत्यु से है, जो 01 मार्च 2021 से 30 जून 2021 तक की अवधि में हुई।

इन बच्चों को इस योजना के तहत प्रतिमाह 5000 रुपये प्रति बच्चा खाते में जमा की जाएगी । यह राशि इनको 21 वर्ष की आयु पूर्ण होने तक नियमित प्राप्त होगी। खाद्यान्न सहायता के रूप में इनको निशुल्क राशन प्राप्त होगा ।शिक्षा सहायता के रूप में बच्चों को विद्यालय और उच्च शिक्षा प्राप्त करने में सहायता प्रदान की जाएगी। बच्चे यदि निजी विद्यालय में अध्ययनरत हैं तो उन्हें आरटीई के तहत निशुल्क शिक्षा की व्यवस्था रहेगी । उच्च शिक्षा के अंतर्गत इन्हें शिक्षण शुल्क के रूप में सहायता दी जाएगी जो कि इनके ग्रेजुएशन समाप्त होने तक लागू रहेगी । उच्च शिक्षा में समस्त प्रकार की तकनीकी शिक्षा भी सम्मिलित है।

यह भी पढ़े.. कृषि मंत्री कमल पटेल का बड़ा बयान- संबल योजना में जुड़ेंगे अब इन किसानों के नाम

ग्वालियर जिले में ऐसे 21 बच्चों के प्रकरण स्वीकृत कर दिये हैं। जिले में इस योजना के अतिरिक्त विभाग 18 वर्ष से कम आयु के बच्चों हेतु sponsership scheme में भी सम्मिलित कर रहा है जिसने इन्हें 2000 रुपये मासिक की सहायता भी मिलेगी। ऐसे परिवारों यदि वे आवास हीन है तो उन्हें मुख्यमंत्री आवास योजना के अंतर्गत ग्वालियर जिले में आवास प्रदान करने की कार्यवाही की जा रही है। अन्य योजनाओं में भी खोजकर पात्रता अनुसार लाभ दिया जाएगा।