खुले पड़े बिजली के तारों से करंट लगने से बच्ची की मौत, लोगों का गुस्सा फूटा

death-of-the-child-due-to-current-shock-in-gwalior

ग्वालियर। शहर में बीती रात से रुक रुक कर हो रही बारिश ने जहाँ लोगों को गर्मी से राहत दिलाई है वहीं यही बारिश एक परिवार के लिए मुसीबत बन गई। छत पर खुले पड़े बिजली के तारों में करंट आ गया और उसमें उलझकर बच्ची की मौत हो गई। बच्ची की मौत के बाद गुस्साए स्थानीय लोगों ने चक्काजाम कर दिया।

जानकारी के अनुसार  महाराजपुरा थाना क्षेत्र के आदित्यपुरम में मकरंद सिंह तोमर रहते हैं वे CRPF में पदस्थ हैं। आजकी सुबह उनके लिए मुसीबत बनकर आई । उनकी 10-11 साल की बेटी परी तोमर की बिजली के तार से निकले करंट में फंसकर मौत हो गई। बताया जाता है कि ये घटना उस समय हुई जब परी छत पर गई। छत पर बिजली के तार खुले  पड़े थे। बारिश के चलते छत गीली थी । बच्ची का हाथ बिजली के तार को छू गया और उसमें निकले करंट से उसकी वहीं मौत हो गई। जब बच्ची बहुत देर तक नीचे नहीं आई तो खोजबीन की गई तब उसकी मौत का पता चला। बच्ची की मौत के बाद कॉलोनी में मातम और गुस्सा छा गया। गुस्साए लोगों ने दीनदयाल गेट के बाहर चक्काजाम कर दिया । चक्काजाम का नेतृत्व भाजपा के वरिष्ठ नेता सतीश सिंह सिकरवार कर रहे थे। करीब एक घंटे तक लोग जाम करते रहे और मुआवजे की मांग करते रहे। गुस्साए लोगों की मांग थी कि दोषी बिजली कम्पनी कर्मचारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की जाये।  चक्काजाम की सूचना पर महाराजपुरा थाना पुलिस मौके पर पहुंची और लोगों को समझाइश देकर चक्काजाम खुलवाया। मृतक परी 5 वीं की छात्रा थी और ग्रीनवुड स्कूल में पढ़ती थी।

कांग्रेस ने भी खोला मोर्चा

आदित्यपुरम में परी तोमर की मौत के बाद कांग्रेस ने भी मोर्चा खोल दिया। कांग्रेस के जिला  प्रवक्ता दिनेश शर्मा के नेतृत्व में कांग्रेस नेताओं ने घटना के बाद कलेक्टर अनुराग चौधरी और बिजली कम्पनी के CE डीपी अहिरवार से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपे। कांग्रेस ने मांग की कि दोषियों पर कार्रवाई की जाए,अवैध कोलोनाइजर को भी दण्डित किया जाए,खंबो पर सही तरीके से तार डाले जाएँ और मृतक बच्ची के परिवार को उचित मुआवजा दिया जाये।