ग्वालियर।

शहर को देश की स्वच्छता रैंकिंग में टॉप पर लाने की कवायद कर रही ग्वालियर नगर निगम को प्रदेश के नगरीय विकास एवं आवास विभाग ने आइना दिखा दिया है। हाल ही में जारी विभाग की रैंकिंग में छिंदवाड़ा नगर निगम टॉप पर है तो ग्वालियर नगर निगम को इसमें नीचे से दूसरा स्थान मिला है। 

प्रदेश के नगरीय विकास एवं आवास विभाग ने प्रदेश की 16 नगर निगमों की उनके कार्यों के आधार पर रैंकिंग जारी की है। गौरतलब है कि नगरीय विकास एवं आवास विभाग स्वच्छ भारत मिशन, प्रधानमंत्री आवास योजना, शहरी आजीविका मिशन, अमृत योजना, स्मार्ट सिटी और टैक्स कलेक्शन जैसे छह मानकों पर रैंकिंग जारी करती है। हाल ही में जारी रैंकिंग में ग्वालियर की स्थिति बहुत खराब है। उसे इस सूची में 15 वी रैंक पर है। ग्वालियर केवल टैक्स यानि संपत्ति कर वसूली में अन्य नगर निगमों से आगे है। ग्वालियर को स्वच्छ भारत मिशन  तहत सफाई के मामले में 40 में से 33.06 अंक मिले हैं।

इसमें ग्वालियर को 14 वा स्थान मिला है। प्रधानमंत्री आवास योजना में ग्वालियर 13 वें स्थान पर है इसमें 20 में से 5.66 अंक मिले हैं। शहरी आजीविका मिशन के तहत केंद्र  और राज्य सरकार की विभिन्न  योजनाओं  के तहत लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया जाता है लेकिन ग्वालियर को 10 में से 2.77 अंक मिले है और ये 12 वें नंबर पर है। अमृत योजना में ग्वालियर की स्थिति अच्छी है। पेयजल और सीवर से जुड़े कामों की प्रगति को देखते हुए इसमें ग्वालियर को 10 में से 5.41 नंबर मिले हैं और वो 8 वीं पायदान पर है। स्मार्ट सिटी योजना में ग्वालियर का काम दूसरे शहरों से अच्छा माना गया है इसमें 10 में से 4.22 अंक मिले है और ग्वालियर नगर निगम को चौथा स्थान मिला है । टैक्स कलेक्शन की स्थिति में ग्वालियर को 5 वां स्थान मिला है इसमें नगर निगम को 10 में से 2.47 नंबर दिए गए हैं। बहरहाल प्रदेश सरकार की ये रैंकिंग उन अफसरों और नेताओं के लिए आइना होने के साथ साथ चुनौती भी है जो योजनाओं के नाम पर करोड़ों रुपए बहाकर वाह वाही लूटते है। अच्छा तो ये होगा कि वे इससे सबक लें और स्वच्छता रैंकिंग के लिए कड़ी मेहनत कर शहर को टॉप पर लाने की सही कोशिश करें।