Gwalior News : मोहन सरकार की सख्ती, सरकारी जमीन पर अवैध कब्जे की कोशिश जिला प्रशासन की टीम ने की नाकाम 

यह बात सामने आई है कि कुछ लोगों द्वारा पैसे लेकर गुमटी व ठेले लगवाए गए थे। सरकारी जमीन पर बेजा कब्जा करने की जुर्रत करने वालों के खिलाफ विधि अनुसार कार्रवाई की जायेगी। 

Atul Saxena
Published on -
Gwalior News
Gwalior News : मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव के निर्देश के बाद जहाँ एक ओर माफिया पर एक्शन हो रहे हैं वहीं छोटे छोटे कब्ज़ा धारियों से भी सरकारी जमीनें मुक्त कराइ जा रहीं हैं,  इसी क्रम में ग्वालियर जिला प्रशासन ने आज नए जिला कोर्ट भवन और कलेक्ट्रेट के पास सरकारी जमीन पर गुमटी, ठेले और दुकाने लगाकर कब्ज़ा करने की कोशिश करने वालों को खदेड़ दिया।

कुछ लोगों द्वारा चूने से लाइन डलवाकर अवैध रूप से गुमठी व ठेले रखवाए

आपको बता दें कि उच्च न्यायालय का स्थगन होने के बाबजूद नवीन जिला एवं सत्र न्यायालय और कलेक्ट्रेट के समीप स्थित सरकारी जमीन पर अतिक्रमण करने की कोशिश को जिला प्रशासन की टीम ने नाकाम कर दिया है। जिला प्रशासन के संज्ञान में यह बात आई थी कि इस जमीन पर कुछ लोगों द्वारा चूने से लाइन डलवाकर अवैध रूप से गुमठी व ठेले रखवाए जा रहे हैं। अवैध अतिक्रमण की इस कोशिश को जिला प्रशासन की टीम द्वारा मौके पर पहुँचकर नगर निगम के मदाखलत दस्ते और पुलिस के सहयोग से नाकाम किया गया।

प्रशासन की संयुक्त टीम ने हटवाया अतिक्रमण 

एसडीएम झाँसी रोड विनोद सिंह ने बताया कि कलेक्ट्रेट के समीप स्थित जमीन पर अवैध रूप से रखे गए ठेले और गुमठी हटा दिए गए हैं। इस दौरान यह बात सामने आई है कि कुछ लोगों द्वारा पैसे लेकर गुमटी व ठेले लगवाए गए थे। सरकारी जमीन पर बेजा कब्जा करने की जुर्रत करने वालों के खिलाफ विधि अनुसार कार्रवाई की जायेगी। अतिक्रमण हटाने के लिये गई टीम में एसडीएम विनोद सिंह के अलावा तहसीलदार सिटी सेंटर अनिल राघव एवं नगर निगम का मदाखलत दस्ता व पुलिस बल शामिल था।

About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News