Gwalior News : गुम हुए मोबाइलों को लौटा कर पुलिस ने मायूस चेहरों पर लौटाई मुस्कान, सवा करोड़ कीमत के 501 मोबाइल बरामद

एमपी के ही पांच जिले ग्वालियर, भिंड, शिवपुरी, द्वतिया और भोपाल सहित देश के 11 राज्य उत्तर प्रदेश, दिल्ली, बिहार, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, झारखंड, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, गुजरात से बरामदी की गई है।

gwalior news

Gwalior News : ग्वालियर साइबर सेल की टीम ने चोरी किए हुए मोबाइलों को ट्रेस कर के 501 मोबाइल बरामद किए हैं जिनकी कीमत लगभग एक करोड़ 21 लाख रुपए है। साइबर टीम ने यह मोबाइल एमपी के पांच जिलों सहित देश के 11 राज्यों से बरामद किए हैं। इन मोबाइलों को ग्वालियर पुलिस के द्वारा मालिकों को सुपुर्द किया गया।

मोबाइल हाथ में मिलते ही खिले लोगों के चेहरे

दरअसल लगातार आ रही मोबाइल चोरी की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक ग्वालियर ने साइबर सेल की टीम को इन सभी मोबाइलों को ट्रेस करने के लिए आदेश दिया। इसके बाद साइबर सेल टीम ने सिर्फ मार्च अप्रैल और मई में एक करोड़ 21 लाख मूल्य के 501 मोबाइल ट्रेस कर बरामद कर लिए गए हैं। जिनके मोबाइल गुम हुए थे, उनमें डॉक्टर, छात्र, गृहणी, पत्रकार, बीएसएफ जवान, मजदूर, ऑटो चालक, किसान, प्राइवेट जॉब करने वाले आदि मोबाइल धारक थे। जिन्हें अपने गुम हुए मोबाइल वापस मिलने पर सभी मोबाइल धारकों के चेहरे पर पुनः मुस्कान लौट आई। सभी मोबाइल मालिकों द्वारा पुलिस अधिकारियों एवं सायबर सेल की टीम का धन्यवाद ज्ञापित किया गया।

Gwalior News : गुम हुए मोबाइलों को लौटा कर पुलिस ने मायूस चेहरों पर लौटाई मुस्कान, सवा करोड़ कीमत के 501 मोबाइल बरामद

इन जगहों से हुए मोबाइल बरामद

साइबर टीम के द्वारा जो 501 मोबाइल ट्रेस कर बरामद किए गए हैं उसमें एमपी के ही पांच जिले ग्वालियर, भिंड, शिवपुरी, द्वतिया और भोपाल सहित देश के 11 राज्य उत्तर प्रदेश, दिल्ली, बिहार, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, झारखंड, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, गुजरात से बरामदी की गई है।


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है।वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”