Gwalior News : कैफे पर फायरिंग करने वाले दोनों आरोपी निकले नाबालिग, कब्जे से पिस्टल और कट्टा बरामद

शिकायत के बाद पुलिस ने आरोपियों की तलाश कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया, दोनों ही आरोपी नाबालिग बताये गए हैं,  पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से एक अवैध पिस्टल, एक अवैध 315 बोर का कट्टा और जिन्दा राउंड बरामद किये हैं।

Atul Saxena
Published on -
Gwalior News

Gwalior News : ग्वालियर के गोला का मंदिर थाना क्षेत्र में बने टी लॉजी कैफे में मामूली विवाद के बाद मैनेजर को निशाना बनाकर फायरिंग करने वाले दोनों आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, दोनों आरोपी नाबालिग हैं , इनके कब्जे से पुलिस ने एक पिस्टल और एक 315 बोर का कट्टा बरामद किया है, इनके पास से जिन्दा राउंड भी मिले हैं, पुलिस पूछताछ कर रही है।

कैफे में फायरिंग करने वाले दोनों आरोपी गिरफ्तार 

पिछले दिनों 11 जून को टीलॉजी कैफे में गोलियां चलाने वाले शिवम वाजपेयी और अन्नू शर्मा को पुलिस ने हथियार सहित गिरफ्तार कर लिया है घटना के बाद दोनों फरार हो गए थे लेकिन गोला का मंदिर थाना पुलिस ने तकनीकी साक्ष्य की मदद से आरोपियों को उनके ठिकाने से गिरफ्तार कर लिया।

मामूली विवाद के बाद मैनेजर पर चलाई थी गोली 

फायरिंग के बाद कैफे मैनेजर जयकांत मौर्य ने पुलिस में रिपोर्ट लिखाई थी कि दो दिन पहले शिवम और अन्नू कैफे में आये थे, वे सिगरेट पी रहे थे उन्हें टोका तो उन्होंने प्लेट तोड़ दी, इस बात को लेकर उनके बीच बहस हुई थी उसके बाद वो फिर हथियार लेकर आये और सिगरेट पीते हुए कैफे में घुसे और मुझे निशाना बनाकर फायरिंग कर दी, मैनेजर ने वहां से भागकर अपनी जाँच बचाई।

आरोपी निकले नाबालिग, दो अवैध हथियार बरामद 

पूरी घटना कैफे में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई, शिकायत के बाद पुलिस ने आरोपियों की तलाश कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया, दोनों ही आरोपी नाबालिग बताये गए हैं,  पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से एक अवैध पिस्टल, एक अवैध 315 बोर का कट्टा और जिन्दा राउंड बरामद किये हैं , पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर रही है।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News