Gwalior Tour: सिंधिया बोले- मैंने देखा केवल मात्र 25% पहन रहे मास्क, ये चिंता का विषय

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। कोरोना (Coronavirus) को लेकर सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया  (MP Jyotiraditya Scindia) कितने ग़ंभीर हैं इसका उदाहरण उनके ग्वालियर दौरे (Gwalior Tour) पर देखने को मिला। उन्होंने लोगों के मास्क नहीं पहनने और कोरोना को लेकर लापरवाही बरतने पर चिंता जताई। वे इस दौरान लोगों के मास्क अपने हाथों से ठीक करते भी दिखे।उन्होंने कहा कि मैंने देखा कि मात्र 25 प्रतिशत लोग ही मास्क पहन रहे हैं ये चिंता का विषय है।

निजी दौरे पार ग्वालियर आये सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कोरोना की गाइड लाइन (Guidelines) का पालन करने की सभी से अपील की है। उन्होंने कहा कि मैंने यहाँ आते हुए देखा कि लोग मास्क नहीं पहन रहे हैं, जो पहन रहे हैं वे ठीक से नहीं पहन रहे और सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान नहीं रख रहे। ये बहुत चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी में साबुन से हाथ धोना,मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना बहुत जरूरी है। मास्क एक जीवनदायी चीज है। उसे पहनना बहुत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि मैंने रास्ते में देखा कि मात्र 25 प्रतिशत लोग ही मास्क पहन रहे हैं बाकी 75 प्रतिशत लोग बिना मास्क के लिए सड़क पर निकल रहे हैं ये चिंताजनक है । सिंधिया ने कहा कि इस महामारी में सावधानी बहुत जरूरी है मैं खुद भुगता हूँ , मुझे ठीक होने में 20 दिन लगे लेकिन इसमें जो दुर्बलता शरीर में आती है वो आसानी से नहीं जाती मैं इस बात को अच्छी तरह समझता हूँ। इसलिए सभी से अपील करता हूँ कि कोरोना की गाइड लाइन का पालन करें।

दूसरों के मास्क ठीक करते दिखे सिंधिया

मास्क के प्रति सिंधिया की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वे लोगों से बात करते समय खुद अपने हाथों से मास्क ठीक करते दिखाई दिये। कल से आज तक कई बार ऐसे मौके आये जब सिंधिया ने अपने हाथ से दूसरों के मास्क ठीक किये। गुरुवार को जय विलास पैलेस में जब लोग सिंधिया से मुलाकात कर रहे थे तब उन्होंने अपने हाथ से एक सरदार जी की मास्क के रूप में लगाई साफी को नाक के ऊपर किया। उसके बाद जब पत्रकार बात करने आगे बढे तो एक पत्रकार का मास्क मुँह से नीचे देख सिंधिया ने उस मीडिया पर्सन को मास्क पहनने का निवेदन किया और उसका मास्क ठीक किया। ऐसा ही शुक्रवार को मुखर्जी भवन में देखने को मिला। यहाँ सिंधिया का स्वागत करने के लिये कुछ महिला नेत्रियाँ आगे बढ़ीं उनके पास मास्क तो था लेकिन वे उसे पहने नहीं थी, सिंधिया ने इशारे से उन्हें मास्क पहनने के लिए कहा। बहरहाल ये चिंता का विषय सिर्फ ज्योतिरादित्य सिंधिया के लिये नहीं होना चाहिए शहर, प्रदेश और देश के हर नागरिक को इस बात की चिंता होनी चाहिए कि वो कोरोना गाइड लाइन का पालन करे और दूसरों को भी प्रेरित करें। मास्क पहनकर दूसरों को भी समझाइश दें कि वो भी मास्क पहने। क्यों कि कोरोना महामारी से जंग सामूहिक प्रयासों से ही जीती जा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here