केसला के ग्राम पिपरिया कलां पहुंचे राज्यपाल मंगू भाई पटेल, कहा-जल, जंगल और जमीन आदिवासियों का अधिकार

राज्यपाल बुधवार को केसला विकास खंड के आदर्श ग्राम पिपरिया कलां में आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे। जहां उन्होंने कहा है कि भारत की आत्मा गांवों में बसती है।

इटारसी, राहुल अग्रवाल। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के राज्यपाल मंगू भाई पटेल (Mangubhai Patel) इटारसी (itarsi) के तवानगर (Tawanagar) में दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे थे। राज्यपाल बुधवार को केसला विकास खंड के आदर्श ग्राम पिपरिया कलां में आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे। जहां उन्होंने कहा है कि भारत की आत्मा गांवों में बसती है। गांव खुशहाल होंगे तभी देश की सही तरक्की मानी जाएगी। सरकार गांवों के विकास के काम कर रही हैं। लेकिन यह तभी पूरी तरह से सफल होंगे जब समाज से भी सहयोग मिलेगा। बिना समाज के सहयोग के सरकारी प्रयास सफल नहीं हो पाते हैं। उन्होंने यहां सरकारी योजनाओं के हितलाभ वितरण किये और बच्चों को अपनी ओर से उपहार स्वरूप टॉफियां और बैग प्रदान किये।

यह भी पढ़ें…सरबजीत सिंह मोखा पर हत्या का केस दर्ज करने की याचिका पर हाईकोर्ट ने दिए जांच अधिकारी को निर्देश, कहा जल्द लें निर्णय

इस अवसर पर मंगू भाई पटेल ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा जल, जंगल और जमीन आदिवासियों का अधिकार है और इसी के तहत केंद्र और राज्य की सरकार ने आदिवासियों को वन अधिकार के पट्टे भी आवंटित किए है। अपने उद्बोधन में महामहिम राज्यपाल ने आदिवासियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि आदिवासी वर्ग के बच्चे भी आज किसी से कम नही है पढ़ाई के दौरान विदेशों में भी सरकारों की मदद से पढ़ाई कर रहे है। वही महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने के लिए भी सरकार संकल्पित है। इस दौरान महामहिम राज्यपाल ने स्वसहायता समूह को सम्मानित किया।

कार्यक्रम के बाद महामहिम राज्यपाल ने ग्राम पिपरिया कला में आदिवासी परिवार तारा बाई शानिराम के घर पर भोजन किया। आदिवासी परम्परा के अनुसार महामहिम को मक्के रोटी के साथ अकाव के पत्ते में पकाई गई रोटी खिलाई गई। गार्ड ऑफ ऑनर के बाद महामहिम का काफिला भोपाल की ओर रवाना हुआ।

केसला के ग्राम पिपरिया कलां पहुंचे राज्यपाल मंगू भाई पटेल, कहा-जल, जंगल और जमीन आदिवासियों का अधिकार