होशंगाबाद, राहुल अग्रवाल। उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण स्वतंत्र प्रभार एवं नर्मदा घाटी विकास राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाह ने शनिवार को होशंगाबाद जिले की उद्यानिकी विभाग की नर्सरियों का निरीक्षण किया। राज्य मंत्री ने शुक्रवार को भोपाल में आयोजित संभागीय अधिकारियों की बैठक में अधिकारियों से फील्ड विजिट करने के निर्देश देते हुए कहा था कि वह स्वयं भी जिला, ब्लॉक और नर्सरी स्तर पर जाकर विभागीय गतिविधियों का निरीक्षण करेंगे।

राज्य मंत्री कुशवाह ने प्रदेश के उद्यानिकी विभाग की सबसे बड़ी मटकुली तथा पचमढ़ी स्थित पोलो गार्डन का निरीक्षण किया। उन्होंने नर्सरियों में काम करने वाले श्रमिकों, माली और स्थानीय अमले से चर्चा कर नर्सरी में चल रहे पौध विकास और उनके रख रखाव की गतिविधियों की जानकारी ली। जंगल से लगे 85 एकड़ रकबे में फैली मटकुली नर्सरी में फेंसिंग नहीं होने से जंगली जानवरों के द्वारा पोधौ को नुक़सान पहुंचाने की बात बताए जाने पर राज्य मंत्री कुशवाह ने उप संचालक उद्यानिकी को चेन फेंसिंग करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कृषक प्रशिक्षण केन्द्र भवन के मरम्मत के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि चेन फेंसिंग और भवन मरम्मत के प्रस्ताव विभाग को भेज कर कार्य करवाए।

उन्होने कहा कि आम, नींबू, संतरा, चीकू और लीची आदि फलदार पोधों की पोध तैयार करने की विभाग कि यह सबसे बड़ी नर्सरी है। विभाग के अन्य जिलों के अधिकारियों को इन नर्सरियों की फिल्ड विजिट करवाने के निर्देश भी विभागीय अधिकारियों को दिए ताकि जिला और ब्लाक लेवल के अधिकारी व्यवहारिक प्रशिक्षण प्राप्त करें। राज्य मंत्री ने मटकुली, पगारा और पोलो नर्सरीर्यो से बेहतर किस्म के आम, नींबू, संतरा, चीकू और नाशपाती आदि के लाखों पौधे हर वर्ष प्रदेश के फल उत्पादक किसानों को सप्लाई करने की व्यवस्था को और अधिक विकसित करने को कहा। कोरोना के वर्तमान हालात में प्रशिक्षण केंद्र पर प्रशिक्षण सत्र आयोजित नहीं होने पर कृषकों के लिए ऑनलाइन प्रशिक्षण व्यवस्था करने के निर्देश भी दिए । उन्होंने कहा कि होशंगाबाद जिले का पचमढ़ी के आसपास का क्षेत्र नर्सरी विकसित करने के बहुत अनुकूल है, इस क्षेत्र में स्थित नर्सरी पर्याप्त ध्यान देने की जरूरत है।

राज्यमंत्री ने कहा कि किसानों को केवल उन्नत किस्म की पौध ही नहीं दी जाए बल्कि वह फलोद्यान की खेती बेहतर ढंग से किस प्रकार करें, जिससे कि अधिक से अधिक उत्पादन हो। उद्यानिकी विभाग के अधिकारी अन्य क्षेत्रों में आम, संतरा, नींबू, नाशपाती लीची आदि की उन्नत किस्म के विकास की जानकारी भी प्राप्त करें और विभाग की नर्सरी में किसानों की मांग के अनुसार उन्नत किस्मों का विकास करें। निरीक्षण के दौरान उद्यान विभाग अधिकारियों के साथ होशंगाबाद जिले के प्रशासनिक अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहें।