लॉक डाउन के 24 घण्टे में इंदौर में पाए गए 919 संक्रमित, 8296 लोगों को लगा टीका, एक डाॅक्टर की मौत

शहर को कोरोना (corona) से बचाने वाली तालाबंदी 19 अप्रैल तक जारी रहेगी। उस दौरान हर रोज सुबह 3 घण्टे 7 बजे से 10 तक दूध, फल और किराना दुकानों से आवश्यक वस्तुओं की खरीदी की जा सकेगी

इंदौर, लाॅकडाउन

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) के इंदौर (indore) में शुक्रवार से लगे लॉक डाउन (lock down) की मियाद बढ़ा दी गई है। यानी अब शहर को कोरोना (corona) से बचाने वाली तालाबंदी 19 अप्रैल तक जारी रहेगी। उस दौरान हर रोज सुबह 3 घण्टे 7 बजे से 10 तक दूध, फल और किराना दुकानों से आवश्यक वस्तुओं की खरीदी की जा सकेगी। हालांकि 19 अप्रैल तक के लॉक डाउन को लेकर विस्तृत आदेश जारी नही हुए है।

इधर, कलेक्टर मनीष सिंह ने इंदौर के कोविड केयर सेंटर को आदेश को जारी किया है। जिसके मुताबिक शहर के धार रोड स्थित सिंहासा गांव में 100 बेड की सुविधा वाले जगतगुरु दत्तात्रेय चिकित्सालय को इंदौर का कोविड केयर सेंटर घोषित किया है। जिसकी जिम्मेदारी सीएमएचओ बीएस सैत्या, वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. माधव हसानी, आईडीए के सीईओ विवेक क्षोत्रिय को सौंपी है। वहीं कोविड केयर सेंटर की जानकारी के लिए प्रकाश रत्न पारखी से संपर्क किया जा सकता है।

इंदौर, लाॅकडाउन

यह भी पढे़ं… MP Board: 10वीं और 12वीं के छात्रों को माशिमं ने दी बड़ी राहत, 15 अप्रैल तक करें संशोधन

इधर, इंदौर में लॉक डाउन की दूसरी रात शुरू होने के पहले चिकित्सा जगत के लिए बुरी खबर सामने आई है। दरअसल, कोरोना से संक्रमित डॉक्टर की मौत हो गई है। मूल रूप से सतना के रहने वाले 35 वर्षीय डॉक्टर दीपक सिंह बघेल इंदौर के एमजीएम कॉलेज में इंटर्न रहे थे और वो 2010 बैच के छात्र थे। कोविड – 19 के वार्ड में वो ड्यूटी दे रहे थे और इसी दौरान वो संक्रमित हो गए जिसके बाद उनका इलाज 10 दिनों तक सुपर स्पेशयलिटी हॉस्पिटल में चल रहा था लेकिन शनिवार को वो कोरोना की जंग हार गये और उनकी मौत हो गई। इधर, डॉक्टर दीपक सिंह की मौत के बाद चिकित्सा जगत में रोष व्याप्त है और जूनियर डॉक्टर से लेकर सीनियर डॉक्टर भी सोशल मीडिया में सरकार पर लापरवाही के आरोप लगा रहे है।

इंदौर, लाॅकडाउन

जहां डॉक्टर की मौत के बाद चिकित्सा जगत स्तब्ध है वहीं दूसरी शनिवार रात को जारी किए आंकड़ो ने एक बार फिर शहरवासियों को हैरान कर दिया है। दरअसल, सीएमएचओ द्वारा जारी की गई रिपोर्ट के मुताबिक शनिवार को इंदौर में 919 नए संक्रमित सामने आए हैं। वहीं कोरोना के कारण 4 लोगो ने दम तोड़ दिया है जिसके बाद कुल मौतों का आंकड़ा 999 तक जा पहुंचा है। इधर, शहर के शासकीय व निजी अस्पतालों सहित होम आइसोलेशन के माध्यम से 7713 एक्टिव मरीजों का इलाज जारी है। इन भयावह आंकड़ो के बीच राहत की बात इतनी है कि शनिवार को मिलान के बाद 211 मरीजो ने कोरोना को मात दी है वही 8296 लोगो को कोरोना वैक्सीन लगाई गई है।

हालांकि, विशेषज्ञ मान रहे है 19 अप्रैल तक लगने वाले लॉक डाउन का असर इंदौर में आने वाले समय मे सकारात्मक नजर आएगा लेकिन फिलहाल, इंदौर कोरोना की रडार पर है।