बिग बॉस्केट के मैनेजर ने कंपनी से तंग आकर जहर खाकर किया सुसाइड

घटना की जानकारी मिलने पर भंवरकुआ पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। फिलहाल, कंपनी प्रबंधन ने इस मामले को लेकर कोई आधिकारिक जानकारी नही दी है।

इंदौर, आकाश धोलपुरे| करीब 5 साल से एक ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी में कार्यरत मैनेजर को पता भी नही था कि एक दिन ऐसा आएगा कि उसकी दिन रात की मेहनत पर पानी फिर जाएगा और उसे उसकी नौकरी के कारण इस दुनिया से रुखसत होना पड़ेगा। घटना इंदौर (Indore) की है जहां एक ऑनलाइन कंपनी बिग बॉस्केट (Online Company Big Basket) में काम करने वाले मैनेजर ने खुदकुशी (Suicide) कर ली।

परिजनों का आरोप है कि 38 वर्षीय मैनेजर मितेश मित्तल निवासी एप्पल रीजेंसी अग्रसेन नगर पर कंपनी के उच्च प्रबंधन की ऑडिट टीम द्वारा दबाव बनाया जा रहा था जिसके चलते उसने प्राणघातक कदम उठाया है। बता दे कि कंपनी द्वारा की जा रही ऑडिट में कई कर्मचारियों से सवाल जबाव किये जा रहे है और हर रोज मृतक मितेश सहित अन्य कर्मियों से सुबह 9 बजे से अगले दिन सुबह 4 बजे तक काम कराया जाता था। परिजनों के बयानों पर गौर किया जाए तो मैनेजर से बंधुआ मजदूर की तरह व्यवहार किया जा रहा था और अंत मे ऑडिट टीम ने बिग बॉस्केट को हुए 3 करोड़ रुपये के नुकसान मैनेजर मितेश मित्तल को ठहरा दिया और वसूली के लिए दबाव बनाने लगे।

दरअसल, मितेश मित्तल कंपनी के वितरण विभाग में थे और ग्रासरी सहित वेजिटेबल्स का लेखा जोखा उनके पास होता था और अहमदाबाद और बैंगलुरू से आई ऑडिट टीम करोड़ो के नुकसान का जिम्मेदार मैनेजर को बता रही थी जिसके चलते मैनेजर के मकान और दुकान सहित अन्य संपत्तियों के कागजात मंगवाये जा रहे थे ऐसे में घबराए मैनेजर ने घर पर आकर बाथरूम में जहर खा लिया और कुछ देर बाद बाहर निकलकर अपनी पत्नि को जहर खाने की जानकारी दी। इधर, घबराई पत्नि ने पड़ोसियों की मदद से मैनेजर को निजी अस्पताल मे भर्ती कराया लेकिन कुछ देर में ही मितेश ने दम तोड़ दिया।

मितेश में मामा के बेटे अमित मंगल ने बताया कि 8 साल पहले उसकी शादी हुई थी और उसका एक पांच साल का बेटा है लेकिन कंपनी द्वारा लगाए गए आरोपों के कारण उसने जहर खाकर अपनी जान दे दी। इधर, घटना की जानकारी मिलने पर भंवरकुआ पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। फिलहाल, कंपनी प्रबंधन ने इस मामले को लेकर कोई आधिकारिक जानकारी नही दी है।