विकास दुबे के एनकाउंटर पर पूर्व मंत्री ने उठाये सवाल

इंदौर| आकाश धोलपुरे| मध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि यह दोनों की सोची समझी साजिश और चाल थी कि कानपुर के मोस्ट वांटेड मृतक विकास दुबे का सरेंडर उज्जैन में करवाया जाए। क्योंकि, यूपी के चुनाव के दौरान नरोत्तम मिश्रा वहां के प्रभारी थे और शिवराज सिंह चौहान वहां पर सभा लेने गए थे|

उन्होंने कहा जब विकास दुबे आगे आकर खुद सरेंडर कर रहा है तो वह पुलिस के हत्थे चढ़ने के बाद भागने की कोशिश क्यों करेगा ? इससे भाजपा की चाल चरित्र और मानसिकता का पता चलता है कि भाजपा किस तरह के असामाजिक तत्वों को पालती- पोसती हैं। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री रहते हुए कमलनाथ जी ने असामाजिक तत्व और गुंडों को खात्मा करने के लिए अभियान चलाया था लेकिन भाजपा के आने के बाद असामाजिक तत्वों को संरक्षण मिल रहा है। पुलिस ने अगर विकास दुबे का एनकाउंटर किया है तो यह ठीक है मेरा यह मानना है कि मैं मानव अधिकार की बात नहीं करता लेकिन इस तरह के लोगों का दुनिया में नहीं रहना ही ठीक है।