फर्जी मार्कशीट मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को किया गिरफ्तार

Amit Sengar
Published on -
arrest

Indore News : इंदौर की विजय नगर थाना पुलिस ने फर्जी मार्कशीट बनाने वाले दो आरोपियों को पकड़ने में सफलता हासिल की है पकड़े गए आरोपियों से पुलिस ने 08 मोबाइल फोन, तीन लैपटॉप, कलर प्रिंटर सहित माध्यमिक परिषद दिल्ली एंव उत्तरांखड राज्य ओपन व इडियन इंस्टीटयूट, अल्ट्रा मेडिसिन तथा ग्लोबल यूनिवर्सिटी की मार्कशीट और अन्य बोर्ड, विश्वविद्यालय की ब्लैंक मार्कशीट साथ ही बोर्ड और विश्वविद्यालय के होलोग्राम और सभी बोर्ड की सील भी जप्त की गई है दोनों आरोपियों को पुलिस ने रांची झारखंड से गिरफ्तार किया है।

क्या है पूरा मामला

दरसअल, फरियादी आशीष श्रीवास्तव ने विजय नगर पुलिस को फर्जी मार्कशीट के बारे में शिकायत की थी जिस पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने रांची का रहने वाला दिनेश तिरोले जो कि इंदौर के खंडवा नाका में अपनी पहचान छिपाकर अपने बड़े भाई अमित के साथ रह रहा था। वहीं दूसरा आरोपी लंबे समय से फरार चल रहा था जिसकी लोकेशन रांची झारखंड में मिली थी। जहाँ पुलिस की एक टीम द्वारा कुमार आर्यन उर्फ मुकेश को रांची से गिरफ्तार किया गया।

indore news

जहाँ मुकेश और अमित बिहार से सभी विश्वविधालय एंव माध्यमिक शिक्षा परिषद दिल्ली की मार्कशीट जो बच्चे पढाई में कमजोर होते थे उनकी बगैर परीक्षा दिये ही फर्जी तरीके से 2 हजार , 5 हजार और 10 हजार रुपये में मार्कशीट बनवा दिया करता था। पुलिस ने मुकेश और अमित को गिरफ्तार कर लिया है। बहरहाल पुलिस ने अब तक फर्जी मार्कशीट मामले में 35 लोगो को गिरफ्तार कर चुकी है और आने वाले दिनों में और भी कई आरोपी पुलिस की गिरफ्त में आ सकते है।

इंदौर से शकील अंसारी की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News