इंदौर: कोरोना कर्फ्यू, मालिक की गलती ने कुत्ते को कराई जेल की सैर

इंदौर

इंदौर, आकाश धोलपुरे। सूबे के सबसे बड़े शहर इंदौर में पुलिस (Indore Police) ने कुछ ऐसा किया कि अब मध्यप्रदेश कि इंदौर पुलिस समूचे विश्व मे खुद को स्थापित कर चुकी है। दरअसल, इंदौर में पहली दफा ऐसा मामला सामने आया है जो विश्व का संभवतः पहला मामला माना जा रहा है।

यह भी पढ़े.. कोरोना संकटकाल में मप्र सरकार ने दी बड़ी राहत, एम्बुलेंस की दरें निर्धारित, आदेश जारी

यहां के पलासिया थाना क्षेत्र में अपने पालतू डॉगी के साथ घूम रहे एक युवक को पुलिस ने डॉगी समेत गिरफ्तार कर कोविड नियमो के उल्लंघन के मामले में कार्रवाई कर दी। खबरों के मुताबिक युवक को जूजू नाम के डॉगी के साथ जेल भी भेज दिया गया। बस ये ही बात है कि अब ये मामला देश ही नही बल्कि पूरी दुनिया के लिए एक बड़े सवाल के तौर पर उभरा है।

दरअसल, पलासिया थाना क्षेत्र के मनोरमागंज में पुलिस और अन्य विभागो की टीम कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) का पालन करवाने के लिहाज से राउंड पर थी। इसी दौरान अलसुबह पुलिस महकमे में डीएसपी रह चुके पिता का बेटा एवं रियल स्टेट कारोबारी अनित नड्डा अपने डॉगी जूजू को शौच के लिए बाहर घुमाने निकल गए और इस दौरान मौके पर पुलिस पहुंच गई। जिसके बाद पलासिया पुलिस ने कोरोना कर्फ्यू उल्लंघन मामले में न सिर्फ अनित नड्डा को गिरफ्तार किया बल्कि 3 साल पहले लाये गए डॉगी जूजू को भी गिरफ्तार कर लिया।

यह भी पढ़े.. चुनाव आयोग का बड़ा फैसला-मप्र समेत इन राज्यों में होने वाले उपचुनाव टाले

हालांकि जानकारी ये सामने आ रही है कि दोनों को अस्थायी जेल भी भेज दिया गया था लेकिन पुलिस इस बात से इंकार कर रही है। पलासिया पुलिस की माने तो युवक को हिदायत देकर छोड़ दिया गया था लेकिन मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक युवक को डॉगी के साथ ही अस्थायी जेल भेज दिया गया था।

फिलहाल, इस मामले में पुलिस के अपने तर्क है और मीडिया रिपोर्ट्स के अलग लेकिन जो भी कार्रवाई हुई उसका विरोध संकट के इस काल मे डॉग लवर्स द्वारा किया जा रहा है। जिससे साफ हो रहा है कि पुलिस को कुछ परिस्थितियों में मानवीय मूल्यों को मामूली सी तरजीह देकर अपना कर्तव्य निभाना चाहिए भले ही संकट कोरोना का ही क्यो न हो।