Jabalpur news: ट्रैफिक पुलिस ना रोकें इसलिए ऑटो चालक ने किया गजब उपाय

ट्रैफिक पुलिस की रोक टोक से बचने के लिए जबलपुर के ऑटो चालक का अजीबोगरीब उपाय। ऑटो पर चिपका दिए आरटीओ संबंधित सभी दस्तावेज।

जबलपुर, संदीप कुमार। मध्य प्रदेश परिवहन विभाग
मध्य प्रदेश हाई कोर्ट के उस आदेश का सख्ती से पालन करवाने में जुटी हुई है, जिसमें कोर्ट ने कहा है कि बिना लाइसेंस के ऑटो सड़क पर कतई ना दिखाई दे। ट्रैफिक पुलिस पूरी मुस्तैदी से बिना परमिट और अवैध ऑटो के खिलाफ लगातार कार्यवाही कर रही है। परिवहन विभाग के नियमों में किसी भी तरह की कोताही बरतने वाले ऑटो चालकों के खिलाफ परिवहन विभाग सख्त कदम उठा रहा है। उनके ऑटो जप्त किए जा रहे हैं और उन पर आवश्यक जुर्माना भी लगाया जा रहा है।

यहां भी देखें- Jabalpur News: मध्यप्रदेश हाईकोर्ट और जिला न्यायालय में वकील आज नहीं करेंगे पैरवी, जानिए वजह?

इस मुहिम में वे ऑटो चालक भी परेशान हो रहे हैं जिनके पास सभी कागजात और जरूरी चीजें मौजूद होती है। ऐसे में परिवहन विभाग की बार-बार की रोक टोक से परेशान होकर एक ऑटो चालक ने अजब ही तरीका निकाल लिया है। इस ऑटो चालक ने अपने पूरे ऑटो के आसपास पुलिस द्वारा मांगे जाने वाले सभी कागजात की फोटो कापियां चिपका दी है, ताकि परिवहन विभाग जब भी उसे रोके तो वह पूरे ऑटो के दर्शन करवा दें और उसे जल्द से जल्द पुलिस की रोक-टोक से मुक्ति मिल जाए।

यहां भी देखें- Jabalpur news: ससुराल में दामाद की मौत, घर वालों ने लगाया हत्या का आरोप

ड्राइविंग लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन कार्ड, बीमा, फिटनेस सर्टिफिकेट, पॉल्यूशन कंट्रोल सर्टिफिकेट, चिपके इस फोटो को देखकर अब हर कोई अचरज में पड़ रहा है। आटो चालक ने अपनी इस बारे में बात करते हुए कहा कि उसके पास पूरे दस्तावेज होते है, फिर भी पुलिस परेशान करती है। चालक जे.बी सिंह ने बताया कि हर चौराहे पर ट्रैफिक पुलिस दस्तावेजों की चेकिंग के लिए रोकती है, जिसके चलते यात्री परेशान होते हैं। वही लेटलतीफी भी होती है। यही वजह थी कि इन तमाम परेशानियों से बचने के लिए मैंने अपनी गाड़ी के तमाम दस्तावेजों की फोटो कॉपी करवा कर पूरे ऑटो में चिपका दिए, जिसके चलते अब पुलिस दूर से ही आटो को देख कर उसे जाने देती है।

यहां भी देखें-  Jabalpur News : डॉ यादव बने MP-CG न्यूरोलॉजिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया के पहले अध्यक्ष

परमिट की बात करें तो आंकड़ों के अनुसार जबलपुर शहर में 15 से 20% परिवहन फिलहाल ऑटो पर निर्भर है। जबलपुर की सड़कों पर अब यह ऑटो आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। वहीं सक्ति से नियमों का पालन कराने में जुटे आरटीओ संतोष पाल का कहना है कि किसी भी कीमत में बिना परमिट और अवैध ऑटो को शहर में नहीं चलने दिया जाएगा।