Jabalpur news : स्कूल की छत गिरने से 7वीं कक्षा के छात्र की मौत, परिजनों में आक्रोश

घटना के बाद स्थानीय लोगों ने ठेकेदार और प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। वहीं बच्चे के परिजन अब ठेकेदार और स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।

जबलपुर, संदीप कुमार। मध्य प्रदेश (Madhya pradesh) के जबलपुर जिले (Jabalpur district) से बड़े हादसे की खबर सामने आई है जहां एक निर्माणाधीन स्कूल का छज्जा गिरने से इसकी चपेट में आए 7वीं कक्षा के एक छात्र की दर्दनाक मौत हो गई। ताजा मामला जबलपुर के डुंगरई शासकीय माध्यमिक स्कूल का है जहां निर्माणधीन स्कूल की खिड़की का स्लैब एक छात्र पर गिर गया। हादसा इतना भयानक था कि बच्चा बुरी तरह से घायल हो गया जिसे आनन-फानन में अस्पताल पहुंचाया गया। वहीं इलाज के दौरान बच्चे ने दम तोड़ दिया। इस घटना के बाद पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है।

ये भी पढ़ें- खबर का असर : नगर परिषद की मदद से रहवासियों को मिला आतंकी सांड से छुटकारा

Jabalpur news : स्कूल की छत गिरने से 7वीं कक्षा के छात्र की मौत, परिजनों में आक्रोश

जानकारी के मुताबिक बेलखेड़ा थाना अंतर्गत ग्राम डूंगरई का शासकीय माध्यमिक स्कूल निर्माणधीन था जहां पर कुछा काम चल रहा था। यहां स्कूल वैसे तो सुबह 10 बजे से लगता था लेकिन 12 बजे तक कोई टीचर स्कूल नही पहुंचा था, लिहाजा बच्चे स्कूल परिसर में खेल रहे थे। इसी दौरान निर्माणधीन स्कूल की खिड़की का स्लैब जोरदार धमाके के साथ गिर गया। इस घटना में 7वीं कक्षा में पढ़ने वाला कार्तिक, छज्जे की चपेट में आकर बुरी तरह घायल हो गया। आनन फानन में बच्चे को मेडिकल कॉलेज लाया गया जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। वहीं शासकीय स्कूल में छज्जा गिर जाने की सूचना मिलते ही बेलखेड़ा थाना पुलिस मौके पर पहुंची और मर्ग कायम कर इस पूरे घटनाक्रम की जांच शुरू की।

ये भी पढ़ें- सहेली की आत्महत्या से सदमें में आई 13 साल की बच्ची ने फांसी लगाकर दी जान, पुलिस जांच में जुटी

बताया जा रहा है कि स्कूल निर्माणाधीन था और वहां पर काम भी चल रहा था। इसके बावजूद स्कूल प्रबंधन ने बच्चों पर ध्यान नहीं दिया, जिसके चलते यह बड़ी घटना हुई। घटना के बाद स्थानीय लोगों का गुस्सा आसमान पर चढ़ गया है। लोगों ने इकट्ठे होकर ठेकेदार और प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। वहीं लोगों का आरोप है कि घटिया निर्माण की वजह से छज्जा गिरा है। इसके चलते आज उनके बच्चे की मौत हो गई। लिहाजा बच्चे के परिजन अब ठेकेदार और स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।