नरसिंहपुर में हुए कुख्यात गैंगस्टर के एनकाउंटर की होगी सीबीआई जांच, सरकार ने की सिफारिश

जबलपुर, डेस्क रिपोर्ट। नरसिंहपुर में दो वर्ष पहले हुई  पुलिस मुठभेड़ में मारे गए गैंगस्टर विजय यादव समीर खान के मामले की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश राज्य सरकार ने कर दी है। विजय व समीर के परिजन घटना के दिन से ही आरोप लगा रहे थे कि विजय व समीर की मौत पुलिस मुठभेड़ में नहीं बल्कि दोनों की हत्या की गई है। यहां तक कि इस मामले में जिले के तत्कालीन एएसपी राजेश तिवारी की भूमिका पर सवाल खड़े किए गए थे। मुठभेड़ में विजय यादव व समीर यादव पर कांग्रेस नेता राजू मिश्रा गैंगस्टर कक्कू पंजाबी हत्याकांड में फरार रहे।

MP : ऑनलाइन RTI पोर्टल की दक्षता पर उठे सवाल, CM के निर्देश के बाद प्रक्रिया में आई तेजी

बताया जाता है कि 19 अगस्त 2019 की सुबह नरसिंहपुर जिले के सुआतला थानाक्षेत्र में तड़के तीन बजे के लगभग बदमाशों की पुलिस से मुठभेड़ हुई, जिसमें एएसपी राजेश तिवारी, सुआतला टीआई प्रभात शुक्ला व एक आरक्षक घायल हो गया था, वहीं विजय यादव व समीर खान की मौत हो गई थी, जिनके शवों को पोस्टमार्टम के लिए नरसिंहपुर के लिए जिला अस्पताल पहुंचा दिया गया था, इस मुठभेड़ की खबर शहर में आग की तरह फैल गई थी, जिसे लेकर तरह तरह की चर्चाएं होने लगी थी।

राज्य सरकार ने निजी स्कूलों को दी फीस की छूट, हाईकोर्ट पहुंचा मामला, जल्द सुनवाई

मृतक विजय यादव व समीर खान के परिजनों ने पुलिस अधिकारियों पर आरोप लगाए थे कि यह साजिश के तहत हत्या की गई है, जिसे मुठभेड़ में तब्दील किया गया है। मामले की  मजिस्ट्रियल जांच हुई थी। उसमें पुलिस की थ्यौरी को सही बताया गया था। तभी से परिजन इस  मुठभेड़ को फर्जी बताते हुए तत्कालीन एसपी गुरुकरणसिंह, एएसपी राजेश तिवारी, टीआई प्रभात शुक्ला सहित अन्य पर षणयंत्र रचकर हत्या को एनकाउंटर में बदलने का आरोप लगाया था, मामले मेें मृतक के परिजनों ने पुलिस के आला अधिकारियों से मुलाकात की, इसके बाद राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्य न्यायाधीश, गृहमंत्री व सीबीआई को एनकाउंटर किलिंग की शिकायत की थी, इसके बाद गृहविभाग ने जांच कराई और रिपोर्ट में इस एनकाउंटर की कहानी में कई खामियां बताई, जिसके चलते सीबीआई जांच की सिफारिश की गई है।

MP उच्च शिक्षा विभाग का फैसला- सभी कॉलेजों में जारी रहेगी Offline Classes, निर्देश जारी

बताया गया है कि करीब चार साल पहले 2017 में बल्देवबाग में कांग्रेस नेता राजू मिश्रा व हिस्ट्रीशीटर कक्कू पंजाबी की चेरीताल कुम्भारे हैल्थ क्लब के सामने  गोलिया मारकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में विजय यादव, समीर खान, विनय उर्फ बिन्नू विश्वकर्मा और नटबाबा की गली दीक्षितपुरा कोतवाली निवासी आदेश सोनी भी फरार थे। विजय व समीर जहां मुठभेड़ में ढेर हो गए। वहीं आदेश सोनी और विनय विश्वकर्मा आज भी फरार चल रहे हैं।