पति ही निकला पत्नी का हत्यारा, नगर निगम ड्रायवर ने पत्नी पर केरोसीन डालकर जलाया

जबलपुर, संदीप कुमार। नगर निगम ड्रायवर ने ही अपनी पत्नी आग लगाकर हत्या कर दी, जिसका खुलासा पुलिस ने किया है। निगम ड्रायवर के ससुर की मौत कुछ समय पहले हुई थी। सास को उनके रिटायरमेंट पर करीब 8 लाख रूपए मिले। इन्हीं पैसों के हड़पने के लालच में ड्रायवर अपनी पत्नी से रोज लड़ता झगड़ता था और एक दिन विवाद के दौरान  उसका मुंह दबाकर पटक दिया और उसके ऊपर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा दी।इतना ही नहीं पत्नी की मौत आत्महत्या लगे इसके लिए निगम ड्रायवर ने झूठी कहानी भी  पुलिस को बताई। लेकिन पुलिस ने मामले की गंभीरता से जांच करते हुए परिजनों के बयान लिए तो उसमें आरोपी की बेटी ने सारा सच पुलिस को बता दिया।

जबलपुर पहुंचे मंत्री गोपाल भार्गव, पार्टी कार्यकर्ताओं से की बात, 23 जुलाई को लेंगे समीक्षा बैठक

थाना प्रभारी बेलबाग अरविंद कुमार चौबे ने बताया कि 16 जुलाई की सुबह आग से जलने से उपचार के दौरान एक महिला की मेडिकल कॉलेज में मृत्यु होने की सूचना मिली थी। मेडिकल कॉलेज पहुंचने पर पुलिस को नरेन्द्र कुमार नन्हेट (उम्र 38 वर्ष) ने बताया कि वह नगर निगम में ड्रायवर है। 15 जुलाई की शाम लगभग 7 बजे घर पर था, खाना खाने के बाद आगे वाले कमरे बैठकर टीवी देखने लगा। उसकी पत्नी नीलू नन्हेट पूजा करने का कहकर घर के अंदर चली गयी। उसने देखा की पत्नी नीलू छत की सीढ़ी चढ़ रही थी उसी समय अचानक गिरने की आवाज आयी तो तुरंत अंदर जाकर देखा तो पत्नी नीलू आग से जल रही थी। उसने तुरंत पत्नी के ऊपर कंबल डालकर आग बुझाई एवं परिवारजनों की मदद से उपचार हेतु विक्टोरिया अस्पताल लेकर गया। यहां डाक्टर द्वारा प्राथमिक उपचार के बाद मेडिकल कॉलेज के लिये रेफर किये जाने पर मेडिकल कॉलेज में ले जाकर पत्नी को भर्ती कराया था। लेकिन उपचार के दौरान उसकी पत्नी नीलू नन्हेट की मृत्यु हो गयी।

इसके बाग पुलिस ने जांच के दौरान मृतका के मायके पक्ष के कथन लिये गये। इस दौरान घटना की चश्मदीद साक्षी मृतका की बेटी ट्विंकल ने पिता नरेन्द्र द्वारा मॉ नीलू पर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा देना बताया। जांच मे पाया गया कि नरेन्द्र द्वारा अपने ससुर की मृत्यु के बाद पेंशन की राशि के लिये सिहोरा कोर्ट में चल रहे केस में सास फूलमती की मदद की गयी थी। 3-4 माह पहले सास को केस जीतने पर 7-8 लाख रुपए मिले थे। सास के द्वारा दामाद नरेन्द्र को हिस्सा न देने से नरेन्द्र एवं नीलू के बीच 3-4 माह से विवाद होने लगा था। इसी विवाद के चलते 15 जुलाई को शाम 7 बजे नरेन्द्र ने पत्नी नीलू का मुंह दबाकर उसपर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा दी।