जबलपुर : मेडिकल कालेज के हॉस्टल में डाक्टर्स ने निगम कर्मियों को बुरी तरह पीटा

जबलपुर, डेस्क रिपोर्ट। जबलपुर के नेताजी सुभाषचंद्र मेडिकल अस्पताल के जूनियर डाक्टर्स की गुंडागर्दी का फिर एक मामला सामने आया है, शनिवार को मेडिकल कालेज के हॉस्टल में मलेरिया-डेंगू की दवा का छिड़काव करने आए नगर निगम कर्मियों से जूनियर डाक्टर्स ने जमकर मारपीट कर दी, नगर निगम की टीम मलेरिया- डेंगू दवा का छिड़काव करने हॉस्टल क्रमांक -1 में पहुंची थी वहां पर डॉक्टरों ने अभद्रता करते हुए उनके साथ बैस-बाल डंडों के साथ मारपीट करते हुए उन्हे बुरी तरह घायल कर दिया। जूनियर डाक्टर्स की गुंडागर्दी का यह कोई पहला मामला नहीं है कुछ दिन पहले भी डाक्टर्स ने मरीजों के परिजनों से मारपीट की थी। 

यह भी पढ़ें… CBSE 10वीं-12वीं रिजल्ट पर बड़ी अपडेट, बोर्ड ने जारी किया महत्वपूर्ण पत्र, छात्रों के लिए जानना आवश्यक, अंक वेटेज पर नवीन जानकारी

बताया जा रहा है कि नगर निगम कमिश्रर के निर्देश पर शनिवार की सुबह स्वास्थ्य विभाग 7 ठेका कर्मचारी मलेरिया-डेंगू दवा का छिड़काव करने मेडिकल अस्पताल के हॉस्टल नंबर 1 पहुंचे थे। दवा छिड़काव के वक्त हॉस्टल में रहने वाले डॉक्टरों से किसी बात को लेकर कहा-सुनी हो गई, हॉस्टल में मौजूद कुछ डाक्टर्स ने मलेरिया दवा का छिड़काव कर रही टीम के साथ अभद्रता कर दी, इसका जब टीम ने विरोध किया तो डाक्टर्स उन पर टूट पड़े, पिटे कर्मचारियों का आरोप है कि 25 से 30 डॉक्टरों ने एक साथ होकर बेस बॉल के डंडों से नगर निगम कर्मचारियों के ऊपर धावा बोलते हुए बुरी तरह से मारा पीटा।  बताया जा रहा है कि दवा छिड़काव करने 7 कर्मचारी हॉस्टल नंबर 1 पहुंचे थे। जिसमें विवाद होने के बाद 2 कर्मचारी अपनी जान बचाकर भाग गए और शेष 5 कर्मचारियों को डॉक्टरों ने घेरा लिया और मारपीट की। मारपीट में घायल हुए नगर निगम ठेका कर्मचारी कुनाल ठाकुर,राकेश बेन, सौरभ, भीम, संदीप और रोहित केवट ने गढ़ा थाना पहुंचकर डॉक्टरों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। पीड़ित कर्मचारियों का कहना था कि बगैर कोई बात के डॉक्टरों ने जानवरों जैसा पीटा है।