Jabalpur News : CBI की छापेमारी में CGST अफसरों के घरों से मिला 83.26 लाख कैश, कोर्ट ने मंजूर की 6 दिन की रिमांड

Amit Sengar
Published on -

Jabalpur News : 7 लाख रुपए की रिश्वत लेने के मामले में सीबीआई की गिरफ्त में आए पांचों सेंट्रल जीएसटी के अधिकारियों को सीबीआई ने कोर्ट में पेश किया, जहां पांचों ही अधिकारियों से पूछताछ के लिए 6 दिन की रिमांड मिली है। सीबीआई कोशिश कर रही है कि पूछताछ के लिए इनसे और अहम जानकारी मिल सके। सीबीआई ने मंगलवार की शाम को सेंट्रल जीएसटी कार्यालय में रिश्वत लेते हुए कपिल कांबले, सौमिल गोस्वामी, विकास गुप्ता, प्रदीप हजारी और वीरेंद्र जैन को पान मसाला कारोबारी की शिकायत पर गिरफ्तार किया है। अब आरोपियों को 20 जून को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

83.26 लाख रु की राशि हुई बरामद

जीएसटी सुपरिटेंडेंट कपिल कांबले के घर से मिले 3 लाख रु,जीएसटी इंस्पेक्टर प्रदीप हजारी के घर से मिले 41 लाख रु, प्रदीप हजारी के ऑफिस केबिन से मिले 16.88 लाख रु,जीएसटी इंस्पेक्टर विकास गुप्ता के घर से मिले 18.29 लाख रु, विकास गुप्ता के ऑफिस केबिन से मिले 1.50 लाख रु, जीएसटी इंस्पेक्टर वीरेंद्र जैन के ऑफिस केबिन से मिले 2.60 लाख रु,जीएसटी अधिकारियों के घरों से कुल 62.29 लाख रु मिले है, वहीं अधिकारियों के ऑफिस केबन से बरामद कुल 20.97 लाख रु हुए, साथ ही अधिकारियों से अब तक 83.26 लाख रु की राशि बरामद हुई है।

पांचों आरोपी अधिकारी सीबीआई कोर्ट में होंगे पेश

सीबीआई ने जीएसटी सुपरिटेंडेंट कपिल कांबले , इंस्पेक्टर विकास गुप्ता, इंस्पेक्टर प्रदीप हजारी, इंस्पेक्टर वीरेंद्र जैन को किया गिरफ्तार किया है। इसके बाद सीबीआई आज दोपहर सभी को सीबीआई कोर्ट लेकर पहुंची है।

यह है पूरा मामला

अफसरों ने दमोह के नोहटा की एक पान मसाला फैक्ट्री पर 18 मई को छापा मारकर सीज कर दिया था। इसे रिलीज करने के एवज में उन्होंने एक करोड़ रुपए मांगे थे। कंपनी के मैनेजर भागीरथ राय और गिरिराज विजय ने CBI जबलपुर SP रिचपाल सिंह से शिकायत की थी कि 3 जून को उनकी मुलाकात कांबले से हुई थी। तब उन्होंने कारखाना परिसर का रिलीज ऑर्डर जारी करने के लिए 1 करोड़ की रिश्वत की मांग की थी। बाद में 35 लाख में सौदा तय हुआ था। 25 लाख रु. कांबले ले चुका था।

भागीरथ ने शेष राशि का भुगतान करने के लिए कुछ मोहलत मांगी थी। 10 जून की रात अधीक्षक ने गिरिराज को उनके मोबाइल के वॉट्सऐप नंबर पर कॉल करके शेष 10 लाख की राशि का तुरंत भुगतान करने कहा था। रकम न देने पर मशीनरी की नीलामी करने की चेतावनी दी। शिकायतकर्ताओं के आग्रह पर 10 लाख की रकम में रियायत कर 7 लाख का भुगतान करने कहा गया था।

जबलपुर से संदीप कुमार की रिपोर्ट


About Author
Amit Sengar

Amit Sengar

मुझे अपने आप पर गर्व है कि में एक पत्रकार हूँ। क्योंकि पत्रकार होना अपने आप में कलाकार, चिंतक, लेखक या जन-हित में काम करने वाले वकील जैसा होता है। पत्रकार कोई कारोबारी, व्यापारी या राजनेता नहीं होता है वह व्यापक जनता की भलाई के सरोकारों से संचालित होता है। वहीं हेनरी ल्यूस ने कहा है कि “मैं जर्नलिस्ट बना ताकि दुनिया के दिल के अधिक करीब रहूं।”

Other Latest News