Jabalpur News : बिना लाइसेंस के संचालित हो रहा था अस्पताल, दलाल लेकर आते थे मरीज, छापे में हुआ खुलासा

अस्पताल प्रबंधन ने जिला प्रशासन की टीम को बताया कि पहले इस अस्पताल का नाम स्मार्ट सिटी था लेकिन इसे बंद कर दिया गया है और एप्पल अस्पताल के नाम से लाइसेंस के लिए दस्तावेज दिए गए हैं।

apple hospital

Jabalpur News : 11 निजी स्कूलों पर कड़ी कार्रवाई कर गैर क़ानूनी तरीके काम करने वालों का कड़ा सन्देश देने वाले जबलपुर जिला प्रशासन की निगाहें अब लोगों के स्वास्थ्य पर टिक गई हैं, कलेक्टर के निर्देश पर आज जिला प्रशासन की टीम ने नई अस्पतालों पर छापा मार कार्यवाही की, इस दौरान प्रशासन को एक अस्पताल ऐसा मिला जो बिना लाइसेंस का संचालित होता मिला।

जबलपुर जिला प्रशासन की टीम ने शहर के शारदा चौक स्थित एप्पल अस्पताल पर छापा मारा जहां टीम को अस्पताल में जांच के दौरान भारी अनियमितताएं मिली। जांच के दौरान यह भी खुलासा हुआ है कि इस अस्पताल का लाइसेंस ही नहीं है और उसके बावजूद भी मरीजो को भर्ती कर उनका इलाज किया जा रहा है। कार्यवाही के बाद जिला प्रशासन की टीम ने अस्पताल में संचालित हो रहे दवा दुकान को सील कर दिया है और पूरे मामले की जांच शुरू कर दी है।

प्रबंधन ने कहा बंद है अस्पताल, तीसरी मंजिल पर भर्ती मिले मरीज  

जबलपुर के शारदा चौक स्थित एप्पल हॉस्पिटल में जिला प्रशासन और पुलिस की संयुक्त टीम ने मिलकर छापा मारा। कार्यवाही के दौरान जिला प्रशासन की टीम ने अस्पताल से जुड़े दस्तावेज मांगे तो अस्पताल प्रबंधन ने अस्पताल को बंद बता दिया। इसके बाद जिला प्रशासन की संयुक्त टीम ने अस्पताल का निरीक्षण किया तो तीसरी मंजिल में सड़क हादसे में घायल 6 मरीज भर्ती मिले। जिनका अस्पताल में इलाज किया जा रहा था।

पहले स्मार्ट सिटी के नाम से संचालित होता था ये अस्पताल 

मरीज ने पूछताछ में बताया कि उन्हें किसी भी प्रकार की कोई जानकारी नहीं है वह दलाल के माध्यम से अपना इलाज करने के लिए अस्पताल में भर्ती हुए हैं। अस्पताल प्रबंधन ने जिला प्रशासन की टीम को बताया कि पहले इस अस्पताल का नाम स्मार्ट सिटी था लेकिन इसे बंद कर दिया गया है और एप्पल अस्पताल के नाम से लाइसेंस के लिए दस्तावेज दिए गए हैं। फिलहाल एप्पल अस्पताल के नाम से कोई भी दस्तावेज मौके पर मौजूद नहीं है। जिला प्रशासन की टीम ने जब मेडिकल दुकान के संबंध में पूछताछ की तो दवा दुकान में भी भारी नियमितताएँ  सामने आई है।

जबलपुर संदीप कुमार की रिपोर्ट 


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ....पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News