जबलपुर में पुलिस से हुई एनएसयूआई कार्यकर्ताओं की झड़प, ये है पूरा मामला

आरोपी सरबजीत सिंह मोखा के बचाव में बोलने वाले डॉ के अस्पताल पर एनएसयूआई ने घेराव किया।

जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर (Jabalpur) में नकली रेमडेसिवीर इंजेक्शन (Remdesivir Injection) की पोल खुलने के बाद जनता में काफी आक्रोश है। वही इंजेक्शन की खऱीद कर मरीजो को लगवाने के आरोप में फंसे सिटी अस्प्ताल संचालक सरबजीत सिंह मोखा के बचाव में बोलना नर्सिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉक्टर जितेंद्र जामदार को महंगा पड़ गया है, जिसके बाद विपक्ष लगातार डॉक्टर जामदार को घरेने में लगा हुआ है, हम आपको बता दें कि डॉ जामदार आरएसएस (RSS) के कार्यकर्ता सहित वरिष्ठ भाजपा (BJP) नेता भी है। वही अब इस मामले ने एनएसयूआई ने भी डॉ जामदार का विरोध किया और उनके अस्पताल का घेराव किया। जिसके चलते पुलिस और एनएसयूआई कार्यकर्ताओ की झड़प हो गई।

एनएसयूआई ने किया जामदार अस्पताल का घेराव
नकली रेमडेसिवीर इंजेक्शन मामले में जेल में बंद सरबजीत सिंह मोखा का डॉक्टर जामदार के द्वारा बचाव करने को लेकर आज एनएसयूआई ने उनके अस्पताल का घेराव किया और जमकर नारेबाजी की, एनएसयूआई का आरोप है कि डॉ जितेंद्र जामदार सरबजीत सिंह मोखा का बचाव कर रहे है, जबकि सरबजीत सिंह मोखा ने नकली इंजेक्शन खरीदकर न जाने कितने मरीजो को लगवाया है जिससे न जाने कितने मरीजों की जान तक चली गई है।

यह भी पढ़ें…टीकमगढ़: सिस्टम की खुली पोल, राशन कार्ड होने के बावजूद बेर और नमक खाने को मजबूर गरीब परिवार

पुलिस से हुई एनएसयूआई कार्यकर्ताओ की झड़प-हुए गिरफ्तार
डॉ जितेंद्र जामदार के अस्पताल का घेराव करने जा रहे एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं को पुलिस ने गोल बाजार के पास ही रोक लिया, इस दौरान पुलिस से उनकी झड़प भी हुई है, प्रदर्शनकारियों के आरोप है कि डॉ जामदार उस व्यक्ति का सपोर्ट कर रहे है जिसने की न जाने कितने मरीजों की जान से खिलवाड़ किया है।

पुलिस ने किया गिरफ्तार-लगाई धारा 144
डॉक्टर जामदार अस्पताल का घेराव करने जा रहे एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं को पुलिस ने बीच में ही रोक कर गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने तमाम प्रदर्शन करने वाले कार्यकर्ताओं के खिलाफ धारा 144 लगाई है और इनके खिलाफ वैधानिक कार्यवाही करने की तैयारी में जुट गई है।

अपने बचाव में डॉ जामदार आए-कही ये बात
एनएसयूआई के प्रदर्शन के बाद डॉ जितेंद्र जामदार का कहना है कि जो भी आरोप मेरे ऊपर लगे है वह निराधार है और मेरे बयान को काट छाटकर बताया गया है, मैं ऐसे किसी भी अपराधी का सपोर्ट नही करता है जिसके ऊपर रासुका लगा हुआ हो,डॉ जामदार ने बताया कि जो भी दोषी हो उस पर सख्त से सख्त कार्यवाही हो ये मैं पहले भी कह रहा था और अभी भी कह रहा हूँ।

बहरहाल सरबजीत सिंह मोखा के बचाव में उतरे डॉ जामदार के खिलाफ जिस तरह से प्रदर्शन विपक्ष कर रहा है उसको लेकर डॉ जामदार बचाव की स्थिति में आ गए है अब देखने वाली बात यह होगी कि इस मुद्दे को विपक्ष कितना भुना पाता है और डॉ जामदार कैसे इस मामले से अपने आपको निकाल पाते है।

यह भी पढ़ें…ब्लैक फंगस को लेकर चिंतित सरकार, Amphoterecin- B इंजेक्शन को लेकर जारी किए ये निर्देश