सिंगरौली पुलिस अधीक्षक वीरेन्द्र सिंह की अपील, कहा-ऑक्सीजन के लिए ज्यादा से ज्यादा करें वृक्षारोपण

पुलिस अधीक्षक ने कहा कि नियमित संरक्षण संवर्धन कर अधिक से अधिक फलदार एवं छायादार वृक्षारोपण करें। वृक्षो से जल संचय भी बना रहता है इसलिए पुलिस लाइन सहित सभी थानों में पौधरोपण किया जाए।

सिंगरौली, राघवेन्द्र सिंह गहरवार। सिंगरौली (Singrauli) पुलिस अधीक्षक वीरेन्द्र सिंह ने आम लोगों से पौधारोपण (plantation) के लिए आगे आने की अपील की। ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण आज की जरूरत है। यह किसी एक व्यक्ति के वश की बात नहीं है। पर्यावरण संरक्षण सामूहिक जिम्मेदारी है। पर्यावरण व ऑक्सीजन और जल संचय को लेकर कहा है कि वृक्षों का मानव जीवन में अधिक बहुमूल्य कीमत है। वृक्ष पर्यावरण के संतुलन को बनाये रखने के साथ-साथ हमे ऑक्सीजन देते है। उन्होंने आम जनता व पुलिस के जवानों से विभिन्न प्रजाति के पौधों की सुरक्षा एवं अधिक से अधिक पौधा रोपण करने की अपील की। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि नियमित संरक्षण संवर्धन कर अधिक से अधिक फलदार एवं छायादार वृक्षारोपण करें। वृक्षो से जल संचय भी बना रहता है इसलिए पुलिस लाइन सहित सभी थानों में पौधरोपण किया जाए।

यह भी पढ़ें…खरगोन : उपजेल में लगा वैक्सीनेशन कैंप, 122 कैदियों को लगा वैक्सीन का पहला डोज

पुलिस अधीक्षक वीरेन्द्र सिंह ने पर्यावरण को शुद्ध रखने व प्रकृति के संतुलन को बनाए रखने के लिए एमपी ब्रेकिंग न्यूज से बात से चर्चा की। उनका कहना है कि जिले को स्वच्छ, हरा-भरा तथा खुशहाल बनाने के लिए अधिक से अधिक पौधरोपण करने एवं उसके नियमित देखरेख की अपील की। उन्होंने आगे कहा कि उनका लक्ष्य है कि आज हमारा देश कोरोना महामारी (corona pandemic) में ऑक्सीजन (oxygen) के लिए जूझ रहा है। उसको देखते हुए पुलिसकर्मियों से कहा कि वह जिस भी थाने में रहें उस थाने में एक अपने नाम का एक वृक्ष लगाएं। इसके पीछे उन्होंने कारण बताया कि वहां से स्थानांतरण के पश्चात भी एक सामाजिकता का कार्य हमेशा जीवित दिखाई देता रहे। इसमें सभी पुलिसकर्मी बढ़-चढ़कर अपनी भागीदारी निभाएं। सभी थाना प्रभारी अपने-अपने थाना परिसर व आसपास पौधरोपण करें। पुलिस अधीक्षक वीरेन्द्र ने कहा कि पौधरोपण से पर्यावरण स्वच्छ रहेगा तथा भूमिगत जल भी सुरक्षित रहेगा। यह हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए अति आवश्यक है।

यह भी पढ़ें…फिर चर्चाओं में Indian Idol 12, अब सोनू निगम ने दी आदित्य नारायण को यह नसीहत

आगे पुलिस अधीक्षक ने कहा कि वृक्षों के बिना मानव जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती। वृक्ष न केवल मनुष्य बल्कि जीव जंतुओं के लिए भी जरूरी है। बहुत से जीव जंतुओं के लिए हरे-भरे वृक्षों से भरा जंगल उनका घर भी होता है। वृक्ष जीवन का आधार होता है। इसका मानव जीवन में महत्वपूर्ण योगदान है। वृक्षो से हमें इतनी बड़ी मात्रा में आक्सीजन प्राप्त होती है जो मानव के लिए उपयोगी है। उन्होंने कहा कि हमें स्वप्रेरणा से पौधारोपण के प्रति जागरूक होना चाहिए। जहां जंगल है वहां शुध्द हवा-पानी के अलावा वृक्षों, कंदमूल, फलफूल अनेक प्रकार के औषधियां वनोपज के रूप में प्राप्त होती है। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि हम सभी नागरिकों का नैतिक दायित्य है कि इन पौधों को संरक्षित एवं सुरक्षित रखें। प्रकृति का संतुलन बनाए रखने के लिए हम सबको वृक्ष लगाना चाहिए। उन्होंने वृक्ष के महत्व एवं परोपकार को प्रतिपादित किया और कहा कि पर्यावरण सुरक्षा और परोपकार भावना प्राणवायु प्रदान करने वाले वृक्ष की सुरक्षा करना हम सभी कर्तव्य है। उन्होंने यह भी कहा कि हर शासकीय विभाग अपने-अपने कार्यालयों के प्रांगण में पर्याप्त संख्या में वृक्ष लगाए। अपने घर, खेत या खाली स्थानों पर पौधे लगाने के लिए प्रेरित किया। वृक्षारोपण करने के साथ-साथ उनकी रक्षा करना हम सभी का दायित्व है। पेड़ का महत्व मानव जीवन में सबसे अधिक है। और यह मनुष्य के लिए अत्यंत आवश्यक ऑक्सीजन प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि बड़ी संख्या में वृक्षारोपण करने से यह क्षेत्र हरा-भरा बनेगा। पर्याप्त मात्रा में आक्सीजन मिलेगा। उन्होंने सभी से आग्रह करते हुए कहा कि प्रकृति को सजाने, सुसज्जित करने के लिए पर्याप्त संख्या में पेड़ पौधे लगाकर उसकी समुचित रक्षा करें।

वृक्ष अमृत के समान है- मनीष त्रिपाठी
पर्यावरण संतुलन को लेकर मोरवा थाना प्रभारी मनीष त्रिपाठी ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण करना विश्व के लिए एक बड़ी चुनौती बन गया है। वृक्ष अमृत के समान है। ऑक्सीजन के साथ-साथ पर्यावरण को शुद्ध रखते है। उन्होंने कहा कि वन, जल और नदी के साथ पर्यावरण को बचाना सभी ग्रामीणों की जिम्मेदारी है। मोरवा टीआई मनीष त्रिपाठी ने कहा कि प्रकृति हमारे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। प्रकृति के अविवेकपूर्ण दोहन के कारण मौसम में परिर्वतन हो रहा है। जिसका हम सभी को खामियाजा भुगतना पड़ेगा। इसलिए जरूरी है कि वृक्षारोपण अधिक से अधिक किया जाए। उन्होंने कहा कि मनुष्य को सबसे ज्यादा शांति और सुकून प्रकृति में मिलती है। उन्होंने सभी को प्रकृति की सुरक्षा के लिए जागरूक होकर पौधरोपण करने एवं उसकी सुरक्षा करने का आग्रह किया।

यह भी पढ़ें…MP Board :10वीं के बाद अब 12वीं की परीक्षाएं भी रद्द, मुख्यमंत्री शिवराज ने ट्वीट कर दी जानकारी