Khargone News: हथियारों के दम पर बदमाशों ने लूटे लाखों रूपए के कीमती जेवर और नकदी, मामला दर्ज

मामले को लेकर पीड़िता ने बताया कि दो सोने के हार समेत कई सोने-चांदी के कीमती गहने और आलमारी से नकदी की लूट की गई।

loot

Khargone News: मध्य प्रदेश के खरगोन जिले से लूट की एक बड़ी वारदात सामने आई है, जहां आधा दर्जन से ज्यादा बदमाशों ने हथियारों के दम पर लूट की वारदात को अंजाम दिया। इस दौरान घर में मौजूद माँ-बेटी के ऊपर हथियार रखकर सोने-चांदी के जेवर और नकदी को लेकर भाग गए। वहीं, खबर मिलने पर मौके पर पुलिस पहुँची और पीड़िता से जानकारी लेकर मामला दर्ज कर लिया।

देर रात घटना को दिया अंजाम

खरगोन जिले के दामखेड़ा कॉलोनी में गुरूवार-शुक्रवार की दरमियानी रात को लगभग ढाई से तीन बजे के बीच अवैध पिस्टल समेत अन्य हथियार और पत्थर लेकर एक घर में करीब 8 लोगों ने धावा बोला। इस दौरान घर में सिर्फ माँ-बेटी मौजूद थी। बदमाशों ने तकरीबन 9 लाख रूपए के कीमती जेवर और करीब 70 हजार रूपए की नकदी लूटकर फरार हो गए। वहीं, मामले को लेकर पीड़िता ने बताया कि दो सोने के हार समेत कई सोने-चांदी के कीमती गहने और आलमारी से नकदी की लूट की गई।

खंगाले जा रहे सीसीटीवी

वहीं पीड़िता की लड़की ने बताया कि लगभग आठ लोगों ने हथियारों के दमपर लूट की घटना को अंजाम दिया है। वहीं, खरगोन जिले के मेनगाँव टीआई बमराम सिंह राठौर के मुताबिक पुलिस को खबर मिलते ही वहाँ पहुँच गए थे। इस दौरान पीड़िता से घटना की जानकारी ली गई। इसके अलावा आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे को देखा जा रहा है, जल्द ही बदमाशों को पकड़ लिया जाएगा।


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है–खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालोमैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।