सीएम के दौरे से पहले मुरैना में फिर कोरोना ब्लास्ट, 100 से ज्यादा नए पॉजिटिव

मुरैना| संजय दीक्षित| मध्य प्रदेश के मुरैना जिले में रोज हो रहे कोरोना विस्फोट से जिला प्रशासन से लेकर सरकार तक हड़कंप मचा हुआ है| शनिवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मुरैना जिले के दौरे पर रहेंगे| इससे पहले एक बार फिर कोरोना ब्लास्ट से हड़कंप मच गया है| शुक्रवार को 100 से ज्यादा नए पॉजिटिव मिले हैं|

कलेक्टर प्रियंका दास द्वारा शहर में कर्फ्यू लगाया गया था जिसके बावजूद बड़ी संख्या में नए मरीज सामने आ रहे हैं| बीते रोज एक युवक की रिपोर्ट पहले पॉजिटिव बतायी गयी उसके बाद दूसरी बार चेक करायी गयी तो निगेटिव निकली। ऐसे ही जिले में करीब 613 रिपोर्ट भेजी गयी थी जिसमे 101 पॉजिटिव रिपोर्ट आई हैं और 512 निगेटिव आयी हैं। जिले में अब एक्टिव केस 464 हो गए हैं|

कलेक्टर ने बताया कि शुक्रवार को ज्ञानोदय छात्रावास से 35 मरीज पूर्ण स्वस्थ होकर घर के लिए डिस्चार्ज किए गए हैं। अब उन्हें 14 दिन के लिए होम क्वॉरेंटाइन करने की बात कही हैं। मुरैना में आये स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान ने कहा है कि सरकार केवल इलाज की व्यवस्था कर सकती है, इसलिये यह जरूरी है कि आम लोग सोशल डिस्टेसिंग का पालन करें, फेस कवर का पालन करें, सैनेटाइजर का उपयोग करें। सरकार कोरोना की चैन तोड़ने के लिये जागरूकता फैला रही है। अन्य राज्यों की अपेक्षा मध्यप्रदेश में इस कोरोना का इलाज एवं कोरोना की जांच निःशुल्क कर रहे है। मुरैना की आवादी के अनुसार पाॅजीटिव काफी है और नये केश भी आ रहे है। मुरैना में वायरल लौड काफी है, काफी लोग प्रभावित है। जिन्हें डिटेक्ट करना जरूरी है, पाॅजीटिविटी रेट 10 प्रतिशत है, स्टेट का एवरेज 3 प्रतिशत है, जो इस बात का इंडिकेशन है कि मुरैना में कोरोना का प्रभाव कम नहीं हुआ है। लोंगो को बहुत ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि प्रशासन से बात कर यह बात निकलकार आई है कि जो लोग पाॅजीटिव होते है उनमें कोई खास सिम्टमस नहीं होते है और ना ही वह बीमारी दिखाई देती है, इससे यह पता चलता है कि मुरैना में मृत्यु दर काफी कम है और लोंगो को बीमारी से अधिक खतरा नहीं है, लेकिन उन लोंगो को अधिक दिक्कत है, जिन्हें अन्य कोई बीमारी भी है, लेकिन हमें संतुष्ट नहीं होना चाहिए।