मुरैना : यहां कानून का नहीं, जंगलराज है, देखिये वीडियो

मुरैना (Morena) जिले में शनिवार को दिनदहाड़े गुर्जर समाज के लोगों ने जमकर उत्पात मचाया। फिल्मी स्टाइल में बाइक पर फायरिंग की गई। वहीं बसों में तोड़फोड़ भी की गई। कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) के बावजूद पुलिस द्वारा वारदात के एमी कोई एक्शन नहीं लिया गया।

मुरैना, संजय दीक्षित। जिले में फिल्मी स्टाइल में कुछ लोग बंदूक लहराते हुए कानून की सरेआम धज्जियां उड़ाते नजर आए और पुलिस तमासबीन बन कर देखती रही। कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) के दौरान शनिवार दोपहर करीब साढ़े 12 बजे गुर्जर समाज के लोगों ने फायरिंग और बसों की तोड़फोड़ की घटना को अंजाम दिया है। फायरिंग में एक महिला गम्भीर रूप से घायल हो गई। इसके अलावा पांच बसों व एक चार पहिया वाहन के कांच भी तोड़ दिए गए। आधे घण्टे तक चले इस उत्पात के बाद अभी लड़के हवा में हथियार लहराते हुए बाइक से फरार हो गए। यह वीडियो सोशल मीडिया (Social Media) पर जमकर वायरल हो रहा है।

 

यह है पूरा मामला
दरअसल इससे पहले सोशल मीडया पर गुर्जर समाज के लोगों द्वारा क्षत्रिय समाज की महिलाओं के विषय में अश्लील पोस्ट डाले गए थे। थाना कोतवाली पुलिस चाहती, तो तभी मामले को गंभीरता से लेते हुए गुर्जर समाज के कमेंट करने वाले लोगों को पकड़ लेती और उनके खिलाफ कार्रवाई कर देती। लेकिन पुलिस ने ऐसा नहीं किया केवल आईटी एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज करके खानापूर्ति कर दी। उसके दूसरे दिन शुक्रवार को इस घटना से आक्रोशित क्षत्रिय समाज के लोगों ने बदला लेने की नियत से गुर्जर समाज के एक लड़के को पकड़ कर सरेआम लाठी-डंडों से पीटा और उसकी बाइक को पत्थरों से तोड़कर पूरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया था। लगातार तीसरे दिन आज यह घटना फिर घटी है। जिसमें गुर्जर समाज के लोगों ने इस घटना को सरेआम अंजाम दिया।

यह भी पढ़ें:-कोरोना कर्फ्यू में लड़कियों से लगवाई उठक-बैठक, वीडियो वायरल

उपद्रवियों से डरकर छिप गई पुलिस
प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि इस घटना में कई लोगों की जान जा सकती थी। कर्फ्यू के कारण अधिकांश लोग घरों के अन्दर थे इसलिए लोगों की जान बच गई। केवल सुनीता शर्मा पत्नी प्रदीप शर्मा उम्र 30 वर्ष की बाजार से दवाई लेकर घर लौट रही थी कि तभी लड़कों ने बाइक पर आकर तोड़फोड़ व फायरिंग की जिसके वह डर के मारे सड़क किनारे नीम के पेड़ नीचे छिप गई। उसी दौरान एक गोली पहले दीवार में बने शटर में लगी, उसके बाद में छिटककर महिला के सिर में लग गयी। जिससे वह गंभीर रुप से घायल हो गई। घायल महिला को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं। आसपास के लोगों ने बताया कि वनखण्डी रोड पर फायरिंग को अंजाम दिया गया था। वहां पुलिस मौजूद थी लेकिन पुलिस ने रोकने की कोई कोशिश नहीं की। कुछ लोगों का कहना है कि पुलिस के कुछ सिपाही वहां मौजूद थे, जो कि लड़कों के तेवर देखकर डर गए और छिप गए थे।

उपद्रवियों की तलाश में जुटी पुलिस
जिस जगह घटना को अंजाम दिया गया था वहां से चंद दूरी पर ही कोतवाली थाना हैं। अज्ञात लड़के लगातार आधे घण्टे तक फायरिंग करते रहे और वाहनों के शीशे तोड़ते रहे, लेकिन कोतवाली थाना पुलिस मौके पर नहीं पहुंच सकी। घटना के काफी देर बाद पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन तब तक बाइक पर सवार लोग फायरिंग करके भाग चुके थे। मामले में पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार पाण्डे (SP Sunil Kumar Pandey) का कहना है कि हमने अभी तक कुल 9 लोगों की गिरफ्तारियां की है। जिसमें से पांच लोगों को शुक्रवार को पकड़ा था और चार लोगों को आज पकड़ा है। वहीं एएसपी नेे कहा कि अभी और गिरफ्तारियों के लिए जगह जगह दबिश दी जा रही हैं। मामले में किसी को भी नहीं बक्शा जाएगा।