विपक्ष के आरोपों पर पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया का पलटवार, जयवर्धन से पूछा सवाल

कोरोना की तीसरी लहर की तैयारियों पर चर्चा करते हुए पंचायत मंत्री का कहना था कि बच्चों पर तीसरी लहर का संभावित असर देखते हुए 100 बिस्तरों वाला कोविड केयर सेंटर शुरु किया जा रहा है। जिसमें सभी बैड पर ऑक्सीजन की सुविधा होगी।

गुना, संदीप दीक्षित पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया (Mahendra Singh Sisodia) कोरोना की तीसरी लहर की तैयारियों से जुड़ी जानकारियां देने मीडिया के सामने आए। गुना (guna) और राजगढ़ जिलों के कोविड प्रभारी मंत्री होने के नाते सिसौदिया ने बताया कि तीसरी लहर के हम पूरी तरह तैयार हैं। हालांकि महामारी के दौरान राजनीतिक बयानबाजी से सिसौदिया आहत दिखे और राघौगढ़ विधायक तथा पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह के सवालों को लेकर हमलावर भी नजर आए।

सिसौदिया ने जयवर्धन सिंह (jayvardhan singh) द्वारा मुख्यमंत्री सहित प्रदेश के मंत्रियों से माफी मांगने की मांग पर कहा कि पूर्व मंत्री सिर्फ बयानबाजी कर रहे हैं। उन्हें कोरोना महामारी से लडऩे के लिए जनता के बीच आना चाहिए। पंचायत मंत्री ने आरोप लगाया कि जिला संकट प्रबंधन समिति की एक भी बैठक में जयवर्धन नजर नहीं आ रहे हैं।

Read More: खुदाई में मिला अंग्रेजों के समय के प्राचीन सिक्के, अरबों में है कीमत!

जयवर्धन के निशाने पर ही बने हुए राजगढ़ सांसद रोडमल नागर का बचाव करते हुए सिसौदिया ने कहाकि कोविड प्रभारी मंत्री होने के नाते वह बताना चाहेंगे कि राजगढ़ सांसद निरंतर लोगों के बीच सक्रिय हैं। वह स्वयं भी कोरोना संक्रमित हुए। इसके बावजूद उन्होंने निजी और सरकारी संसाधनों से लोगों की मदद की है।

गुना जिले में उठ रही मेडीकल कॉलेज की मांग को लेकर पंचायत मंत्री ज्यादा गंभीर नजर नहीं आए। उन्होंने कहाकि प्रत्येक सौ किलोमीटर पर मेडीकल कॉलेज होने से जनता को ज्यादा लाभ नहीं मिलता है। इस समय शिवपुरी और दतिया के ग्वालियर में मेडीकल कॉलेज हैं। फिर भी वह प्रयास करेंगे कि जिले को मेडीकल कॉलेज मिले।

Read More: नरोत्तम मिश्रा ने की दिग्विजय सिंह की तारीफ़, कह दी ये बड़ी बात, सियासी हलचल तेज

कोरोना की तीसरी लहर की तैयारियों पर चर्चा करते हुए पंचायत मंत्री का कहना था कि बच्चों पर तीसरी लहर का संभावित असर देखते हुए 100 बिस्तरों वाला कोविड केयर सेंटर शुरु किया जा रहा है। जिसमें सभी बैड पर ऑक्सीजन की सुविधा होगी। इसे पीडियाट्रक के नाम से जाना जाएगा। इसके अलावा गेल और अन्य निजी क्षेत्र की संस्थाओं से भी मदद मांगी गई है, ताकि वह सामाजिक सरोकार के तहत कोरोना से लडऩे में लोगों की मदद के लिए आगे आएं। सिसौदिया ने बताया कि इस महामारी में जिस तरह भारत ने लड़ाई लड़ी है, वह काबिले तारीफ है। क्योंकि अमेरिका जैसा देश भी महामारी से जूझता नजर आया। वहीं हमने विशाल क्षेत्रफल और बड़ी आबादी होने के बावजूद बेहतर तरीके से यह लड़ाई लड़ी है।