Vaccination for child: 15 से 18 वर्ष के बच्चों के वैक्सीनेशन का महाअभियान आरंभ

15 से 18 साल के बच्चों को वैक्सीन लगाने का महा अभियान शुरू। मुरैना में भी मंत्री की निगरानी में महा अभियान का आरंभ।

मुरैना, संजय दीक्षित। covid-19 के खिलाफ जंग में भारत सरकार ने एक और बड़ा कदम उठाते हुए आज से बच्चों के लिए वैक्सीनेशन के महा अभियान की शुरुआत की है। इसी क्रम में मुरैना में भी 15 से 18 वर्ष के बच्चों का वैक्सीनेशन (Vaccination for child) का पहला डोज लगाने का विशेष महाअभियान शुरू हुआ। मुरैना में पहले दिन 30 हजार बच्चों को वेक्सीन लगाने का लक्ष्य रखा गया।

यहां भी देखें- murena news: अवैध खनन की शिकायत पर बड़ी कार्रवाई, करोड़ों का पत्थर गायब

नील वर्ल्ड स्कूल में मध्य प्रदेश पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक वित्त एवं विकास निगम के अध्यक्ष रघुराज कंसाना ने इस अभियान की शुरुआत की। इस मौके पर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर एवं प्रभारी मंत्री ने बच्चों से ऑनलाइन बात कर उन्हें प्रोत्साहित किया। इस महा अभियान के प्रति बच्चों का विशेष उत्साह देखा गया। बच्चे स्कूल में पहला डोज लगवाने के लिए सुबह से लाइन में खड़े नजर आए। मुरैना में एक साथ 514 स्कूलों में वेक्सीन लगाने का काम शुरू किया गया। शासकीय व निजी स्कूलों में शहर में मुख्य रूप से 14 स्कूलों को चयनित किया गया।

यह भी देखें- MadhyPradesh: BJP नेता के चंबल नदी में कूदने की आशंका, सर्चिंग ऑपरेशन जारी

बच्चों को वैक्सीन का पहला डोज प्रशासनिक अधिकारियों, पूर्व विधायक और शिक्षा विभाग के अधिकारियों की मौजूदगी में लगाया गया। जागरूकता बढ़ाने के लिए इसका सीधा प्रसारण किया गया। केंद्रीय मंत्री और प्रभारी मंत्री खुद इसे देख थे। अभियान सुबह 10:00 बजे से शुरू हुआ। बच्चों ने बड़ी निडरता से वैक्सीन लगवाई। केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि आज के जो बच्चे हैं वही देश का भविष्य हैं। आने वाले कल के निर्माण में सफलतापूर्वक योगदान बच्चों का है पहले वेक्सिनेशन में सभी लोगों ने भरपूर सहयोग किया। इस बार अभियान में शिक्षा विभाग को भी जोड़ दिया गया है। प्रभारी मंत्री के साथ सभी लोगों ने मिलकर जो योगदान दिया वह तारीफ के काबिल है।

यह भी देखें- Jyotiraditya Scindia: शनि के दरबार में “महाराज” की अर्जी, संकट दूर करने हुई विशेष पूजा

उन्होंने कहा, ओमिक्रोन से डरने की जरूरत नहीं है आने वाले दिनों में कोरोनावायरस से लड़ने के लिए सभी जिलों ने योगदान दिया इस बार भी सभी लोग मिलकर ओमीक्रोन के खतरे को टालने में मिलकर सहयोग करें। जिलों में सिटी स्कैन, कंसंट्रेटर की आवश्यकता भरपूर मात्रा में दी गई है । इसके साथ ही ऑक्सीजन बेड की भी व्यवस्था की गई है। जहां ऑक्सीजन को लेकर मरीजों को किसी भी तरह की परेशानी ना हो, जिले में सही तरीके से जनता का सहयोग मिल सके सभी समाजसेवी संस्थाओं को मिलकर कार्य करना चाहिए।
कलेक्टर, जिला पंचायत सीईओ, शिक्षा विभाग के अधिकारी ,नगर निगम कमिश्नर सहित अन्य अधिकारियों की मौजूदगी में उन्होंने कहा, पीएम मोदी ने जब स्वच्छ भारत का अभियान चलाया था उसमें सबसे अधिक योगदान देने में बच्चों का ही सर्वाधिक योगदान था।