Mohan Cabinet Meeting: मंगलवार को मोहन कैबिनेट बैठक, इन अहम प्रस्तावों को मिल सकती है मंजूरी

मोहन कैबिनेट बैठक में जल संंसाधन, लोक निर्माण विभाग, नगरीय विकास और आवास विभाग समेत अन्य विभागों के करोड़ों रुपए नए प्रोजेक्ट मंजूर करने और पूर्व में रुके व अटके प्रोजेक्ट को शुरू करने पर हरी झंडी मिल सकती है।

Mohan Yadav

Mohan Cabinet Meeting Today 2024 : लोकसभा चुनाव के नतीजे आने और आचार संहिता खत्म होने के बाद अब प्रदेश की मोहन यादव सरकार एक्टिव मोड में आ गई है । मंगलवार को करीब 90 दिनों के बाद मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव की अध्यक्षता में राजधानी भोपाल में 11 बजे मंत्रालय में कैबिनेट बुलाई गई है। इस कैबिनेट बैठक में 2 दर्जन अहम प्रस्तावों पर चर्चा होने की संभावना है।इससे पहले पिछली बैठक आचार संहिता लगने से पहले 14 मार्च 2024 को हुई थी।

कैबिनेट में इन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा

  • जानकारी के अनुसार, मंगलवार को होने वाली मोहन कैबिनेट बैठक में जल संंसाधन, लोक निर्माण विभाग, नगरीय विकास और आवास विभाग समेत अन्य विभागों के करोड़ों रुपए नए प्रोजेक्ट मंजूर करने और पूर्व में रुके व अटके प्रोजेक्ट को शुरू करने पर हरी झंडी मिल सकती है।
  • विधानसभा के मानसून सत्र पर भी चर्चा हो सकती है। खास करके मोहन सरकार का फोकस जुलाई में पेश होने वित्त बजट रहेगा।सीएम द्वारा विधायकों और मंत्रियों को विभागों से संबंधित कार्यों को लेकर निर्देश दिए जा सकते है।
  • विधानसभा और लोकसभा चुनाव में गेम चेंजर साबित हुई लाड़ली बहना योजना का भी रिव्यू किया जा सकता है। चुंकी बीते दिनों सीएम ने बाकी बचे नामों को जोड़ने और राशि बढ़ाने की बात कहीं थी।
  • लोकसभा चुनाव के बाद बड़ा प्रशासनिक फेरबदल किया जा सकता है। संभावना है कि प्रदेश के कई आईएएस, आईपीएस अफसरों को इधर से उधर किया जा सकता है। वही कर्मचारियों किसानों और युवाओं को लेकर भी कोई फैसला लिया जा सकता है।

पिछली कैबिनेट में हुए थे ये बड़े फैसले

गौरतलब है कि आखिरी बार 14 मार्च 2024 को मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव की अध्यक्षता में कैबिनेट बैठक हुई थी, जिसमें “प्रधानमंत्री कृषक मित्र सूर्य योजना,केन-बेतवा लिंक परियोजना के लिये 24 हजार 293 करोड़ 24 लाख रू, चित्रकूट विकास प्राधिकरण स्थापना , रोपवे परियोजनाओं का अनुमोदन,पीएम जनमन में नरसिंहपुर में मार्ग निर्माण और मुरैना के अम्बाह पिनहट मार्ग के लिये 157 करोड़ 77 लाख रूपये की स्वीकृति दी गई थी।


About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)