पत्रकार का अपहरण और मारपीट, आक्रोशित पत्रकारों ने की कार्रवाई की मांग, आंदोलन की चेतावनी

नीमच,श्याम जाटव

नीमच में अपराधियों के हौंसले इतने बुलंद है कि उन्होने एक पत्रकार का अपहरण कर उसके साथ मारपीट की। लोकतंत्र के चौथे स्तंभ कहे जाने वाले पत्रकार का आधी रात में अपहरण किया गया और गंभीर मारपीट कर हाईवे के किनारे छोड़ गए। घटना के बाद पत्रकार जगत में गहरा आक्रोश है। इस मामले में प्रदेश के मुख्यमंत्री और गृह मंत्री के नाम ज्ञापन देकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की गई है।

यह है घटना
पत्रकार विष्णु मीणा के अनुसार वह 5-6 अगस्त की मध्यरात्रि में अपने संस्थान पर कार्य पूरा कर बाइक से घर जा रहे थे, इस दौरान रास्ते में बिना नंबर की सफेद रंग की स्कार्पियो कार आई और पीछे से बाइक को टक्कर मार कर गिरा दिया। इसके बाद बदमाश उतरे और विष्णु को कार में घसीट लिया। कार में सवार लोगों ने नकाब बांध रखे थे और उनकी संख्या करीब 5 थी। बदमाशों ने विष्णु के साथ गंभीर मारपीट की और उसे फोरलेन बायपास पर छोड़कर फरार हो गए। जब बदमाश विष्णु को जबरन उठाकर कार में घसीट रहे थे तब यह वाकया किसी व्यक्ति ने देख लिया और तत्काल पुलिस को सूचित कर दिया। पुलिस ने चारों तरफ नाकाबंदी की, गश्ती टीम को पत्रकार विष्णु बायपास पर घायल अवस्था में मिला जिन्हें अस्पताल में भर्त कराया गया है।

बदमाश दे रहे कानून व्यवस्था को चुनौती
इस घटना की सूचना मिलते ही प्रेस क्लब अध्यक्ष विष्णु परिहार, पूर्व अध्यक्ष श्याम गुर्जर सहित पत्रकार साथी सुबह जिला चिकित्सालय पहुंचे और घायल पत्रकार मीणा से घटना के बारे में जानकारी ली। घटना को लेकर पत्रकारों में गहरा आक्रोश फैल गया। दोपहर एक बजे जिला प्रेस क्लब अध्यक्ष के नेतृत्व में बडी संख्या में पत्रकार गण एसपी कार्यालय पहुंचे जहां पर प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा के नाम एसपी मनोज कुमार रॉय को ज्ञापन देकर घटना की जांच और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की गई। पत्रकारों ने चेतावनी दी है कि तीन दिन के भीतर कार्रवाई नहीं की गई तो आंदोलन के लिए बाध्य होना पड़ेगा।
प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के नाम पर एक ज्ञापन नीमच विधायक दिलीपसिंह परिहार को भी सौंपा गया। विधायक परिहार ने एसपी से फोन पर चर्चा की और दोषियों की जल्द गिरफ्तारी करने को कहा। विधायक परिहार ने कहा कि जिले में बढ़ती आपराधिक घटनाओं और खासतौर पर मीडिया पर हो रहे हमले को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री और गृहमंत्री को अवगत करा रहे हैं। इस मौके पर ज्ञापन का वाचन पूर्व जिलाध्यक्ष कपिलसिंह चौहान ने किया। ज्ञापन देने में जिला प्रेस क्लब सचिव भारत सोलंकी, उपाध्यक्ष दिनेश शर्मा, सह सचिव ललितसिंह चुंडावत, कोषाध्यक्ष श्याम सारड़ा, पूर्व जिलाध्यक्ष श्याम गुर्जर, हरिश अहीर, विवेक खंडेलवाल, राकेश सोन, अब्दुल हुसैन बुराहानी, पंकज श्रीवास्तव, संजय यादव, पं. कमलकांत जोशी, युगल बैरागी, दिनेश नलवाया, राजू दस्सा, मनीष बागड़ी, विवेक राव शिंदे,महेश जैन, प्रीतेश सारड़ा, अविनाश जाजपुरा, गोपाल मेहरा, दीपक खताबिया, पंकज मेनारिया, महेंद्र उपाध्याय, दीपक चौहान, संदीप शर्मा, एसएस कछावा, संजय नागदा, राजा प्लास आदि पत्रकार और मीडियाकर्म शामिल थे।

इनका कहना है –

पत्रकार का अपहरण और मारपीट होना गंभीर घटना है। इस बारे में मुख्यमंत्री और गृहमंत्री से संपर्क कर जिले के हालातों से अवगत कराएंगे। जंगलराज नहीं चलने दिया जाएगा। कानून का राज कायम होगा। यदि कहीं पुलिस की कमजोरी है तो उसे भी ठीक करवाएंगे।
दिलीपसिंह परिहार, विधायक नीमच

लोकतंत्र के प्रहरियों के साथ आए दिन ऐसी घटनाएं न केवल पत्रकार जगत के लिए बल्कि कानून व्यवस्था का जिम्मा ओढने वाले पुलिस और प्रशासन के लिए गंभीर चुनौती है। पत्रकार का अपहरण और गंभीर मारपीट की घटना घोर निंदनीय है। तीन दिवस के भीतर घटना की जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की चेतावनी पत्रकारों ने दी है। इसके बाद भी संतोषजनक कार्रवाई नहीं हुई तो आंदोलन को बाध्य होंगे।
विष्णु परिहार, अध्यक्ष नीमच जिला प्रेस क्लब नीमच

घटना की जानकारी मिलते ही पत्रकार से जिला चिकित्सालय में जाकर जानकारी ली है। बयानो के आधार पर लूट, अपहरण सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। कुछ संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रहे हैं। इस मामले में घटना की वास्तविकता का पता लगाया जाएगा। दोषियों को कतई नहीं बख्शेंगे।
मनोजकुमार रॉय, एसपी नीमच