Neemuch News: पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 4 करोड़ से अधिक का अवैध डोडाचूरा जब्त, 2 गिरफ्तार

डोडाचूरा की कीमत लगभग 4 करोड़ 50 लाख रुपए बताई जा रही है। जिसका परिवहन ट्रक से किया जा रहा था। फिलहाल, दोनों आरोपियों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामला पंजीबद कर लिया गया है।

Sanjucta Pandit
Published on -
arrest

Neemuch News : मध्य प्रदेश के नीमच जिले से इस वक्त की बड़ी खबर सामने आई है, जहां पुलिस ने 44 क्विंटल 15 किलोग्राम अवैध डोडा चूरा जप्त किया है। इसके साथ ही मौके से दो तस्करों को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। बता दें कि डोडाचूरा की कीमत लगभग 4 करोड़ 50 लाख रुपए बताई जा रही है। जिसका परिवहन ट्रक से किया जा रहा था। फिलहाल, दोनों आरोपियों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामला पंजीबद कर लिया गया है। साथ ही आगे की कानूनी कार्रवाई जारी है।

मुखबिर से मिली सूचना

दरअसल, पुलिस को मुखबिर द्वारा सूचना मिली थी कि चौराहा नयागांव पर ट्रक के माध्यम से भारी मात्रा में अवैध मादक पदार्थ डोडाचुरा का परिवहन किया जा रहा है। जिसपर त्वरित कार्रवाई करते हुए टीम का गठन किया गया और नीमच-निम्बाहेडा हाईवे फोरलेन सीसीआई चौराहा नयागाँव पर नाकाबंदी की गई। इस दौरान नीमच से पंजाब की ओर जाने वाले ट्रक क्र. पीबी-10-डीजेड-4860 को हमराह फोर्स की मदद से रोका गया। जिसकी जांच करने पर उसमें काले और सफेद रंग के 211 कट्टों में कुल 44 क्विंटल 15 किलोग्राम अवैध मादक पदार्थ डोडाचुरा पाया गया।

कार्रवाई जारी

मौके से दो आरोपियों को गिरफ्तार भी किया गया, जिनकी पहचान सिमरन जीत सिंह उम्र 23 साल निवासी ग्राम ठठीखारा, जिला तरणतारण (पंजाब), जबकि दूसरे की पहचान गुरूसेवक सिंह उम्र 29 साल निवासी ग्राम ठठिया माहंता, जिला तरणतारण (पंजाब) के रुप में की गई है। दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से अवैध मादक पदार्थ जब्त किया गया और उनके खिलाफ धारा 8/15 एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है।

नीमच से कमलेश सारडा की रिपोर्ट


About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है। पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।

Other Latest News