निवाड़ी: 48 घंटे बाद भी बोरवेल से नहीं निकाला जा सका मासूम, रेस्क्यू जारी

मप्र के निवाड़ी जिले के सैतपुरा गांव में बोरवेल में गिरा चार साल का मासूम प्रहलाद अब भी जिंदगी की जंग लड़ रहा है। उसे बचाने का रेस्क्यू अब भी सतत जारी है।

निवाड़ी, डेस्क रिपोर्ट। मप्र (madhya pradesh) के निवाड़ी (Niwari) जिले के सैतपुरा गांव में बोरवेल (borewell) में गिरा चार साल का मासूम प्रहलाद (prahlad) अब भी जिंदगी की जंग लड़ रहा है। उसे बचाने का रेस्क्यू (rescue) अब भी सतत जारी है। लखनऊ से पहुंचे राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के साथ प्रशासन और सेना की टीम लगातार रेस्क्यू कर रही है। पिछले 48 घंटों से बोरवेल में फंसे बच्चे की कैमरे अब कोई हलचल होती नहीं दिख रही है, जिससे चिंता बढ़ गई है। रेस्क्यू टीम जल्द से जल्द बच्चे तक पहुंचने की कोशिश कर रही है।

बच्चे तक पहुंचने के लिए रेस्क्यू टीम अब तक करीब 65 फिट तक गड्ढा खोद चुकी है। अब NDRF की टीम 20 फीट के टनल बनाने का काम करेगी। 12 से अधिक NDRF की टीम रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी है। स्थानीय अधिकारियों के मुताबिक अब भी उसे बाहर निकालने के लिए 8 से 10 घंटे का समय लग सकता है। स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा बोरवेल में लगातार आक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। लेकिन पिछले 48 घंटों से बोरवेल में फंसे होने के कारण बच्चा अचेत हो गया है और उसकी कोई आवाज नही आ रही है। कैमरे में भी बच्चे की कोई हलचल नहीं दिख रही है, जिसने सभी को चिंता में डाल दिया है। बच्चे के परिजनों के साथ पूरा गांव उसकी सलामती की दुआ कर रहा है। वहीं हालात को देखते हुए सेतपुरा में धारा 144 लागू कर दिया गया है।

गौरतलब है कि निवाड़ी के पृथ्वीपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत सैतपुरा गांव में बुधवार को एक 4 वर्षीय मासूम बोर में गिर गया था। सैतपुरा गांव निवासी हरकिशन कुशवाहा का चार वर्षीय बेटा प्रहलाद कुशवाह घर के आसपास खेल रहा था। इसी दौरान घर के पास दो सौ फीट गहरा बोर खोदा गया था। काम पूरा होने के बाद बोर को बंद नहीं किया गया था। इस बोर में बच्चा खेलते खेलते गिर गया। जब लोगों ने मासूम को बोर में गिरते देखा तो पूरा गांव में हडक़ंप मच गया। सूचना के बाद बच्चे का रेस्क्यू शुरू किया गया जो अब भी जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here