बंदी की पिटाई नहीं करने के बदले जेल प्रहरी ने ली रिश्वत, लोकायुक्त पुलिस ने रंगे हाथ गिरफ्तार किया

Atul Saxena
Published on -
Lokayukta Action, Jail guard arrested taking bribe, Raisen News

Lokayukta Action : मप्र में फिर एक भ्रष्ट शासकीय सेवक को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया है, आरोपी जेल प्रहरी है और जेल में बंद बंदी की पिटाई नहीं करने के बदले  6000/- रुपये  की रिश्वत ले रहा था, लोकायुक्त ने रिश्वत की राशि के साथ पकड़ा है।

बंदी की पिटाई नहीं करने के बदले जेल प्रहरी ने मांगी रिश्वत 

मामला रायसेन जिले की बेगमगंज उप जेल का है, जानकारी के अनुसार उप जेल में बंद बंदी जगदीश अहिरवार के मित्र अर्जुन रैकवार ने भोपाल लोकायुक्त पुलिस को शिकायत की थी कि उप जेल का प्रहरी अमित धाकड़ उसके मित्र की पिटाई करता है उसे जब ऐसा नहीं करने के लिए कहा तो उसने 6000/- रुपये की रिश्वत मांगी है।

लोकायुक्त पुलिस ने रिश्वत लेते जेल प्रहरी को दबोचा 

लोकायुक्त पुलिस ने शिकायती आवेदन के बाद इसकी पुष्टि की और फिर आज ट्रेप प्लान किया, जेल प्रहरी अमित धाकड़ द्वारा अर्जुन रैकवार को जिस समय पर उसे बुलाया वो पहुंच गया और जैसे ही अर्जुन ने जेल प्रहरी को रिश्वत की राशि 6000/- रुपये दिए एक्टिव खड़ी लोकायुक्त भोपाल की टीम ने उसे दबोच लिया।

लोकायुक्त की कार्रवाई से उप जेल में मचा हडकंप 

जेल प्रहरी को रिश्वत लेते लोकायुक्त द्वारा रंगे हाथ पकड़े जाने के बाद बेगमगंज उपजेल में हडकंप मच गया, उधर लोकायुक्त पुलिस ने रिश्वतखोर जेल प्रहरी अमित धाकड़ के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं में मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News