राजगढ़ में एक साथ उठी 6 अर्थियां, भीषण हादसे में एक ही परिवार के 8 सदस्यों की मौत

राजगढ़, डेस्क रिपोर्ट। राजगढ़ में जब एक साथ 6 अर्थियां उठी तो हर आँख झलक आई। शहर में चारों ओर मातम पसरा था। घटना की खबर सुनने के बाद पूरा शहर बंद हो गया।वहीं अंतिम यात्रा में शामिल होने के लिए जीरापुर की सड़क पर भारी भीड़ उमड़ पड़ी।

जीरापुर के दो चचेरे भाई ललित पिता श्याम सोनी और पवन पिता सुंदरलाल सोनी 1 जनवरी को खाटू श्याम की पदयात्रा पर निकले थे। दोनों करीब 25 दिन पैदल चलकर खाटू श्याम पहुंचे थे। उनके खाटू श्याम पहुंच जाने के बाद परिवार के सदस्य दोनों चचरे भाइयों को लेने के लिए दो गाड़ियां लेकर राजस्थान पहुंचे थे। 26 जनवरी को दर्शन करने के बाद पूरा परिवार दो गाड़ियों में वापस लौट रहा था। इस दौरान आगे चल रही गाड़ी के साथ हादसा हो गया।

राजस्थान में सड़क दुर्घटना के शिकार हुए सोनी परिवार के छह लोगों का अंतिम संस्कार बुधवार शाम को जीरापुर में कर दिया गया। दो रिश्तेदारों का अंतिम संस्कार मक्सी में गुरुवार को किया जाएगा। राजगढ़ जिले के एक कुनबे के 8 लोगों की मौत से पूरा जीरापुर गांव स्तब्ध है। आसपास के गांवों तक में मातम पसरा रहा। इतने भीषण सड़क हादसे की खबर जिसने सुनी सन्न रह गया। हर आंख झलक आई।

ये सभी जीप से खाटू श्यामजी के दर्शन करने गए थे। लौटते समय राजस्थान के टोंक जिले के सदर थाना इलाके में मंगलवार की देर रात तेज रफ्तार ट्रेलर और जीप की भिड़ंत हो गई। इसमें परिवार के आठ लोगों की मौत हो गई, जबकि चार जख्मी हुए जिनका इलाज जयपुर में चल रहा है । मृतकों में चार पुरुष, दो महिलाएं और दो बच्चे शामिल हैं।

हादसे में कुल 8 लोगों की मौत हो गई। इनमें जीरापुर के दो सगे भाई रामबाबू उम्र 37 और श्याम सोनी उम्र 41 शामिल है। रामबाबू के इकलौते बेटे नयन 15 और श्याम सोनी के बेटे ललित 24 (पदयात्री) ने भी दम तोड़ दिया। वहीं ममता उम्र 29 और बबली उम्र 22 नाम की दो बहनों (रामबाबू और श्याम की चचेरी बहनें) और ममता के बेटे अक्षत उम्र 3 वर्ष की मौत हो गई। अक्षिता उम्र 6 नाम की एक बच्ची ने भी दम तोड़ दिया, जिसकी मां सरिता घायल है। वहीं, सरिता की 3 साल की दूसरी बच्ची नन्नू को हादसे में खरोंच तक नहीं आई। इस सभी मृतक में से 6 लोगो का अंतिम संस्कार बुधवार को शाम 5 बजे जीरापुर में हो गया है, जबकि ममता ओर अक्षत का अंतिम संस्कार गुरुवार को मक्सी में किया जाएगा ।

श्याम खाटू के लौटते समय मरने के कुछ घण्टे पहले ही रामबाबू सोनी का जन्मदिन उनके पूरे परिवार ने सफर के दौरान मनाया था। हादसे में मृत रामबाबू सोनी के बेटे नयन ने फूल का गुलदस्ता देकर पिता को बधाई दी थी और कुछ घण्टे बाद राजस्थान के टोंक के पास हादसे में दोनों पिता पुत्र के साथ परिवार के 8 लोगो की मौत हो गई।