Ratlam : जावरा ब्लैकमेलिंग कांड के मुख्य आरोपी निशित उर्फ मयूर बाफना ने कोर्ट में किया सरेंडर

जावरा ब्लैकमेलिंग कांड के प्रमुख आरोपी निशित उर्फ मयूर बाफ़ना ने जावरा कोर्ट में आज आत्मसमर्पण किया।

रतलाम, मनोज श्रीवास्तव। कुछ दिन पहले रतलाम (Ratlam) जिले के जावरा (Jaora)शहर से दोस्ती कर रेप (rape) और फिर ब्लैकमेल (blackmail) करने का मामला सामने आया था। जहां बड़ावदा के एक युवक ने जावरा के एक व्यापारी की बेटी के आपत्तिजनक फोटो वायरल करने की धमकी देकर ना सिर्फ गलत काम किया था बल्कि दो साल में उससे करीब 1 करोड़ 35 लाख रुपए, साढ़े 3 किलो सोने और 15 किलो चांदी की ज्वेलरी भी हथिया ली थी। जिसके बाद लड़की के परिजनों ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई थी। वहीं अब इस वारदात का मुख्य आरोपी निशित उर्फ मयूर बाफ़ना ने जावरा कोर्ट में मंगलवार को सरेंडर (surrender) कर दिया।

यह भी पढ़ें…कोरोना वैक्सीन लगवाने एसडीएम ने निकाली रैली, दुकानदारों से टीका लगवाने का किया आग्रह

अचानक पंहुचा कोर्ट
बता दें कि पुलिस तभी से आरोपी नीतीश उर्फ मयूर बाफना की तलाश कर रही थी। जिसके चलते पुलिस ने इंदौर, उज्जैन सहित कई इलाकों पर भी दबिश दी थी। लेकिन पुलिस के हाथ आरोपी नहीं लगा। वहीं मंगलवार को अचानक आरोपी खुद ही जावरा कोर्ट पहुंचा और आत्मसमर्पण कर दिया। सरेंडर की सूचना पर सिटी पुलिस कोर्ट पहुँची और ने चार दिन का रिमांड पीरियड माँगा। जिसके बाद पुलिस ने 28 अगस्त तक आरोपी को रिमांड में लिया है। जिसके बाद आरोपी से पुलिस सच उगलवाएगी।

बता दें कि पीड़िता ने परिजनों के साथ जावरा थाने में 3 सप्ताह पहले रिपोर्ट दर्ज कराई थी। जिसमें दोस्ती की आड़ में दुष्कर्म करके ब्लैकमेल कर पैसे ऐंठने की शिकायत की गई थी। मार्च 2019 में निशित ने घर में युवती को अकेला पाकर कोल्ड्रिंग्स में नशीला पदार्थ मिलाकर पिलाया फिर आपत्तिजनक फोटो ले लिए। फिर इन फ़ोटो, वीडियो के ज़रिए लड़की को धमकाया और रेप किया। इसके बाद लगातार ब्लैकमेल करता रहा। साथ ही फ़ोटो वीडियो वायरल करने की धमकी देते हुए रुपयों की माँग करने लगा। बदनामी के डर से लड़की ने घर की तिजोरी में रखे रुपए और पुस्तैनी आभूषण उसे देना शुरू कर दिए। रुपए और आभूषण निशित व उसके दोस्तों ने मिलकर लिए। कई बार फोन-पे से तथा अन्य माध्यम से उसके एक्सिस बैंक और सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की शाखाओं में लाखों रुपए जमा भी करवाए। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी और उसके साथियों के खिलाफ धारा 376, 450, 385 व 506 में एफआईआर दर्ज की थी। और तभी से पुलिस आरोपी को पकड़ने की कोशिश कर रही थी।

यह भी पढ़ें…जिनकें लिए काम ही भगवान, जानिए ऐसे राशि के जातकों के बारे में