रतलाम| कोरोना संकट (Corona Crisis) के इस दौर में मानवता के बेमिसाल उदाहरण देखने को मिल रहे हैं| वहीं कुछ अमानवीयता भी नजर आ रही है| मामला रतलाम (Ratlam) का है जहां कोरोना संदिग्ध महिला की मौत के बाद शव लेकर आये कर्मचारियों ने पीपीई किट और ग्लव्ज चिता में डाल दिए। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है| कैमरे में कैद हुई इन लोगों की करतूत पर लोगों की कड़ी प्रतिक्रिया आ रही है|

जानकारी के मुताबिक मामला रतलाम के भक्तन की बावड़ी मुक्तिधाम का है| यहां जावरा की एक कोरोना संदिग्ध महिला का प्रोटोकॉल के अनुसार अंतिम संस्कार किया जा रहा था| शव वाहन के साथ आये दो कर्मचारी चिटा के पास गए और अपना पीपीई सूट और हाथ में पहने ग्लब्स उतारे और जलती चिता में फेंक दिए|

परिवार को मौत की सूचना तक नहीं दी
बताया जा रहा है कि जावरा की महिला की बुधवार शाम माैत हाे गई थी। लेकिन प्रशासन ने परिजन काे इसकी सूचना तक नहीं दी। उनकी रिपोर्ट 2 बार निगेटिव आ चुकी थी। फिर भी नगर निगम ने कोरोना प्रोटोकॉल के तहत रतलाम में अंतिम संस्कार किया। परिवार वालों का आरोप है कि उन्हें मां की मौत की सूचना अस्पताल की बजाय कहीं और से मिली। उसके बाद वे सीधा मुक्तिधाम पहुंचे| जहां शव वाहन के साथ आए लोगों ने पीपीई किट और ग्लव्ज भी चिता में डाल दिए।