सागर में वाहनों के लिए ई पास का आदेश वापस, विरोध के चलते लिया निर्णय

सागर में पुलिस प्रशासन के ई-पास के आदेश जारी होते ही विरोध शुरू हो गया। जिसे 4 घंटे में वापस लेना पड़ा।

सागर, अतुल मिश्रा। सागर में पूर्व में मिली कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) के दौरान छूटों को समाप्त कर लागू ई-पास (E-Pass) लागू करने के आदेश को जिला प्रशासन ने चार घंटे में ही वापस ले लिया। पहले आदेश किया गया था कि बगैर ई-पास के वाहनों के आवागमन कर प्रतिबंध रहेगा। सड़क पर निकलने वाले वाहनों को ई-पास जरूरी होगा। केवल मेडिकल इमरजेंसी के वाहनों को आवागमन की छूट रहेगी। इसके लिए प्रशासन तीन कैटेगरी में ई-पास जारी करने की बात कही थी। यह व्यवस्था सागर में शनिवार से लागू होनी थी।

यह भी पढ़ें:-तीसरी लहर से निपटने के लिए तैयार अशोकनगर, विधायक जज्जी निजी तौर पर कर रहे हर व्यवस्था

एसपी अतुल सिंह (SP Atul Singh) ने कहा था कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए सागर में सख्ती शुरू की गई है। जगह-जगह चेकिंग पॉइंट लगाकर वाहनों की चेकिंग की जा रही है। सड़कों पर निकलने वाले वाहनों को ई-पास होना अनिवार्य होगा। ई-पास नहीं होने पर वाहनों के आवागमन पर प्रतिबंध रहेगा। स्मार्ट सिटी द्वारा ई-पास जारी किए जाना थे।

सोशल मीडिया पर आदेश का विरोध

सागर एसपी के सोशल मीडिया पर वीडियो के माध्यम से सूचना जारी की थी। जिसमें बताया गया कि ई-पास तीन कैटेगरी में जारी होंगे, जो मेडिकल स्टॉफ, शासकीय विभागों की कर्मचारी और आम जनता के लिए अलग-अलग रहेंगे। कोरोना कर्फ्यू में कार्रवाई से बचने के लिए वाहन से घरों से निकलने के पहले ई-पास अनिवार्य किया गया है। प्रशासन के इस आदेश का लोगों ने विरोध शुरू कर दिया। सोशल मीडिया पर बढ़ते विरोध को देखकर आदेश लागू होने से पहले ही जिला प्रशासन ने इसे वापस ले लिया है।

इन तीन कैटेगरी में जारी होने थे ई-पास

  • कोरोना कर्फ्यू के दौरान डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ के लिए। यह ई-पास पूरे समय या एक माह तक लिए जारी होने थे।
  • शासकीय कार्यालयों के कर्मचारियों के लिए ग्रुप ई-पास जारी किए होने थे। इस ई-पास पर सोमवार से शुक्रवार तक यानी सप्ताह में 5 दिन शासकीय विभागों के कर्मचारी आवागमन करने की अनुमति देनी थी।
  • आम लोगों को एक दिन के लिए ई-पास अलग से जारी किया जाना था। इसमें ई-पास लेने वाले को कारण बताना था। यह ई-पास सिर्फ एक दिन के लिए लागू होते।