हीरापुर अंधे कत्ल का पुलिस ने किया खुलासा, जानें क्या है पूरा मामला

पुलिस ने भाभी की पूरी कुंडली खंगाली तो पता चला कि वह अपनी ससुराल हीरापुर में अपने पति के साथ नहीं बल्कि सागर में अपने प्रेमी के साथ रहती है।

सागर,विनोद जैन। सागर (sagar) जिले के सुरखी थाना अंतर्गत ग्राम हीरापुर में 7 अगसत को कंछेदी लोधी पिता तखत सिंह लोधी की खून से सनी लाश मिलने से सनसनी फैल गई थी, जिस पर पुलिस ने अज्ञात हत्यारों के खिलाफ मामला दर्ज कर विवेचना शुरू की तो पुलिस को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा क्योंकि पुलिस को हर तरफ यही सुनने में आ रहा था, कि मृतक बहुत सीधा साधा था, जिसकी किसी से कोई रंजिश नहीं थी, और न ही कोई ऐंसी जायदाद थी, जिसके कारण यह घटना हुई हो।

यह भी पढ़े…हाईकोर्ट ने ई-वे बिल को लेकर सुनाया अहम फैसला, जानें क्या है पूरा मामला

बया दें कि पहले तो पुलिस ने मृतक के भाई से गहरी पूंछताछ की जब उसमें कोई सफलता नहीं मिली तो पुलिस ने अपनी जांच की दिशा बदली जो मृतक की भाभी पर आ टिकी, जब पुलिस ने मृतक की भाभी राजकुमारी उर्फ सौम्या से पूंछताछ की, तो उसने बड़े नाटकीय ढंग से अनभिज्ञता दिखाई, यहीं से पुलिस को पक्का यकीन हो गया, फिर पुलिस ने भाभी की पूरी कुंडली खंगाली तो पता चला कि वह अपनी ससुराल हीरापुर में अपने पति के साथ नहीं बल्कि सागर में अपने प्रेमी के साथ रहती है।

हीरापुर अंधे कत्ल का पुलिस ने किया खुलासा, जानें क्या है पूरा मामला

यह भी पढ़े…अधिकारियों पर इल्जाम लगाकर अपनी नाकामी छिपा रहे हैं कमलनाथ : डॉ. केसवानी

पुलिस ने सागर में अपने मुखबिर लगाये तो उसका प्रेमी रमेश अहिरवार सुरखी पुलिस के हत्थे चढ गया जब थाने लाकर उनसे पूंछताछ की गई तो रमेश अहिरवार ने बताया कि राजकुमारी और मेरी प्रेम प्रसंग है राजकुमारी के कहने पर हम दोनों ने सोते समय बडे चाकू से उस पर हमला कर दिया जब राजकुमारी से हत्या की वजह पूंछी तो उसने बताया कि उसके देवर कंछेदी के साथ उसका प्रेम प्रसंग कई साल से चल रहा है और देवर कंछेदी ने उसे पत्नी बनाकर जीवन भर साथ रखने का वादा किया था। और तो और राजकुमारी ने यह भी बताया कि उसकी जो तीन पुत्रीं हैं वह भी उसके पति से नहीं बल्कि देवर से हुई थी, लेकिन उसके बाद देवर ने दूसरी शादी कर ली जिसके कारण वह देवर से गहरी रंजिश रखने लगी थी। और दूसरा प्रेमी पाते ही प्रेमी के साथ मिलकर प्रेम में धोखा देने वाले प्रेमी देवर की हत्या कर दी।