तस्कर वैभव जैन के पार्टनर प्रकाश साँखला को रायपुर से सागर लाया गया, जेल भेजा

सागर, अतुल मिश्रा। सोने की तस्करी में पकड़े गए सागर बड़ा बाजार निवासी वैभव जैन से डायरेक्टर ऑफ रेवेन्यू इंटेलीजेंस की पूँछतांछ में दुर्ग के सबसे बड़े सराफा कारोबारी प्रकाश साँखला को दुर्ग से हिरासत में लेने के बाद उसे दूसरे दिन रायपुर ले जाया गया था। रायपुर में डीआरआई की लंबी पूछताछ में सागर के कई सराफा कारोबारियों की जानकारी इंटेलीजेंस को हाथ लगी है। शुक्रवार को डीआरआई टीम सोना तस्करी करने वाले मुख्य सरगना प्रकाश साँखला को सागर ले कर पहुंची जहां उसे सागर न्यायालय में पेश किया गया।

ग्वालियर कलेक्टर के निर्देश- ‘अब किसी को भी न दें होम आइसोलेशन की अनुमति’

इंटेलीजेंस टीम ने न्यायालय से प्रकाश साँखला की 31 मई तक न्यायायिक हिरासत में रखने का तर्क देते उससे सोने की तस्करी मामले में और जानकारी मिलने तथा पूछताछ करने के लिए 31 मई तक का समय मांगा। एडीजे स्वाति बघेल के न्यायालय ने उसे केंद्रीय जेल सागर भेज दिया है। अब 31 मई सोमवार को प्रकाश साँखला की न्यायालय में पेशी होगी। इस तरह अब वैभव जैन और उसके अन्य साथियों के बाद प्रकाश साँखला भी सागर जेल में बंद है। डायरेक्टर ऑफ रेवेन्यू की आठ सदस्यीय टीम इन आरोपियों से सोने की तस्करी से जुड़े लोगों के अलावा तस्करी का सोना खरीदने वाले कारोबारियों, दो नम्बर का सोना एक नंबर में करने वाले दुकानदारों के नाम सहित बीते कुछ वर्षों में किन किन जिलो राज्यो में स्वर्ण तस्करी कारोबार से जुड़े सभी लोगो की महवपूर्ण जानकारियां टीम को मिली है।

तस्कर वैभव जैन तथा छत्तीसगढ़ दुर्ग के सराफा कारोबारी प्रकाश साँखला ने सोने की तस्करी में फाइनेंस करने तथा दो नंबर के सोने को एक नंबर में करने को लेकर सागर के पांच बड़े सराफा व्यापारियों के नाम सामने आए हैं। इसमें परकोटा स्थित गुजराती नमकीन हाउस के ठीक सामने एक ही परिवार की तीन ज्वेलरी दुकान के नाम प्रमुखता से सामने आए हैं। सूत्रों ने यह भी बताया है कि सागर के नामचीन सराफा व्यवसायी के साथ वैभव जैन के परिवार के सदस्य जिनकी फैंसी नाम से ज्वैलरी दुकान है, वही तस्करी का सोना न केवल बड़ी मात्रा में गलाते थे बल्कि दो नंबर के सोने को एक नम्बर में करने के लिए पुराने गहनों आभूषणों की खरीदी कागजो में दर्शाने का खेल भी करते थे. जिससे शासन के करोड़ों रुपयों के टैक्स की चोरी की जाती है।

सागर में स्वर्ण तस्करी मामले में गिरफ्तार वैभव एवं दुर्ग के सराफा कारोबारी प्रकाश साँखला जिसका टार्न ओवर 500 करोड़ रुपए से अधिक का बताया गया है उसके द्वारा सागर जबलपुर रीवा सीधी कटनी सहित 15 जिलो में तस्करी के माध्यम से सोना भेजा जा रहा है। जांच में उन सभी कारोबारियों के नाम उजागर करने के जो तस्करी के सोने को गलाने, दो नंबर के सोने की खरीदी कर आभूषण गहने बनाने एवं टैक्स चोरी से जुड़े है के नाम आरोपियों से उगलवाये जा रहे हैं। टीम सूत्रों के अनुसार अभी तक प्रदेश के आठ जिलो के सराफा कारोबारी चिन्हित किये जा चुके है सूत्रों का यह भी कहना है कि सागर में सोनू जैन मोनू जैन फैंसी ज्वेलर्स के नाम आरोपियों द्वारा बताये गए हैं जो तस्कर का मुख्य सरगना वैभव जैन के परिजन चाचा के लड़के है एवं पांच अन्य बड़े सराफा कारोबारियों के नाम इंटेलीजेंस टीम को मिले है। टीम इन कारोबारियो से कभी भी पूछताछ शुरू कर सकती है।