सतना/पुष्पराज सिंह बघेल

करोना वायरस को लेकर पूरे देश में लॉक डाउन है। प्रदेश का मिनी बॉम्बे इन्दौर में एक सैकड़ा से ज्यादा मरीज चिन्हित है। इंदौर को पूरी तरह सील किया गया है इसके बावजूद दहशत से लोग गुपचुप तरीके से इंदौर छोड़ भागकर अपने गाँव पहुँच रहे हैं।

ऐसा ही मामला सतना में सामने आया है जहां कोठी कस्बे में सोमवार की अलसुबर करीब तीन बजे पति पत्नी साढ़े आठ सौ किलोमीटर बाइक चलाकर अपने घर पहुँचे और लगभग आठ घण्टे घर पर छिपे रहे। मामले की जानकारी जिला प्रशासन तक पहुँची और अब पूरे परिवार को 14 दिन विशेष निगरानी में रखा गया है। इस मामले में एक बड़ी लापरवाही भी उजागर हुई है । इंदौर से लौटे युवक के पिता खुद स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ है फिर भी उन्होने अपने बेटे बहू के इंदौर से लौटने की बात छिपाई और बेटे बहु के साथ समय बिताने के बाद कोठी अस्पताल पहुंचकर ड्यूटी जॉइन की और मीटिंग में भी हिस्सा लिया । ऐसे में अब पूरे अस्पताल के कर्मचारी दहशत में आ चुके क्योंकि इंदौर से लौटे पति पत्नी उसी मुहल्ले में रहते थे जहां कई कोरोना मरीज चिन्हित हुए थे। मामला सामने आने के बाद उन  सारी जगहों को सेनेटाइज किया गया है।

अब  स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ इस कर्मचारी के पूरे परिवार को होम आइसोलेट किया गया है। प्राथमिक जांच के बाद जिला अस्पताल में पूरे परिवार के सेम्पल लिए गए और जांच रिपोर्ट जबलपुर लैब भेजी जा रही। दरअसल कर्मतारी का पुत्र और बहू इंदौर में रहते थे और उनके मुहल्ले में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने से वो दहशत में आ गये और बाइक से ही इंदौर से सतना पहुँच गए ।  मामले की जानकारी सीआईडी पुलिस को हुई और मामला जिला प्रशासन तक पहुचा । आनन फानन में स्वास्थ विभाग की टीम घर मे कोविड 19 का नोटिस चस्पा कर दिया है और पूरे परिवार को 14 दिन के लिए क्वारंटाइन कर दिया है।