Seoni पुलिस ने मवेशियों से भरा ट्रक किया जब्त, आरोपी फरार, तलाश में जुटी पुलिस

पुलिस द्वारा जब्त किए गए मवेशियों की कीमत तकरीबन 1,05,000 रूपए बताई जा रही है, जबकि ट्रक की कीमत करीब 5 लाख रूपए बताई जा रही है।

cattle

Seoni News: मध्य प्रदेश की सिवनी जिले की पुलिस ने मवेशियों की तस्करी के खिलाफ कार्रवाई करत हुए एक ट्रक को जब्त कर लिया है। इस दौरान ट्रक में 26 मौजूद थे, जिन्हें पुलिस ने गोशाला भिजवा दिया है। फिलहाल, पुलिस की गिरफ्त से आरोपी फरार हैं, जिनकी तलाश की जा रही है।

4 मवेशियों की मौत

दरअसल, मामला सिवनी जिले के बंडोल थाना के अंतर्गत इलाके का बताया जा रहा है, जहां बंडोल थाने की पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली थी कि एक ट्रक से मवेशियों की तस्करी की जा रही है। वहीं, मुखबिर की सूचना के आधार पर पुलिस ने NH 44 में फिल्टर प्लांट के पास नाकाबंदी कर दी। इस दौरान एक आयशर ट्रक जोकि एपी 29 वी 5592 नंबर का था। उसको घेराबंदी कर पकड़ा। हालांकि, ट्रक चला रहा चालक पुलिस को देखकर फरार हो गया। वहीं, चालक के फरार होने के कारण ट्रक जाकर गड्ढें में गिर गई। जब पुलिस ने वालों ने ट्रक से मवेशियों को निकाला, जिसमें 26 मवेशियों को भरा गया था, लेकिन उसमें चार की मौत हो चुकी थी।

पुलिस ने ट्रक किया जब्त

बंडोल थाने की पुलिस ने अज्ञात मवेशी तस्करों के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर फरार आरोपियों की तलाश में जुट गई है। वहीं, पुलिस द्वारा जब्त किए गए मवेशियों की कीमत तकरीबन 1,05,000 रूपए बताई जा रही है, जबकि ट्रक की कीमत करीब 5 लाख रूपए बताई जा रही है। वहीं मवेशी तस्कर को नाकाम करने में बंडोल थाना प्रभारी राजेश कुमार दूबे, सहायक उपनीरिक्षक मायाराम धुर्वे, प्रधान आरक्षक बालमुकुंद बघेल समेत कई पुलिसकर्मियों ने सराहनीय भूमिका निभाई।

 

 


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है–खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालोमैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।

Other Latest News