शिवराज सरकार ने पूरा किया वादा, JC Mill  के श्रमिकों को दिया बड़ा तोहफा

ग्वालियर, अतुल सक्सेना।  शिवराज सरकार (Shivraj Government) ने चुनावों के समय किया वादा पूरा किया है और ग्वालियर की JC Mill  के श्रमिकों के दशकों पुरानी मांग को पूरा कर उन्हें एक बड़ा तोहफा दिया है।  सरकार बंद पड़ी JC Mill  के आवासों में रह रहे श्रमिकों को मालिकाना हक़ दे रही है।  आज बुधवार को ऊर्जा मंत्री एवं क्षेत्रीय विधायक प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar) ने शिविर लगाकर श्रमिक परिवारों को पट्टों के लिए आवेदन पत्र बांटे। उन्होंने एक बुजुर्ग श्रमिक महिला के पैर छूकर आशीर्वाद भी लिया।

शिवराज सरकार ने पूरा किया वादा, JC Mill  के श्रमिकों को दिया बड़ा तोहफा शिवराज सरकार ने पूरा किया वादा, JC Mill  के श्रमिकों को दिया बड़ा तोहफा

उपनगर ग्वालियर के कांच मिल कम्युनिटी हॉल में आयोजित शिविर में ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने JC Mill  के  श्रमिकों को बड़ी सौगात दी। उन्होंने श्रमिकों को आवास का मालिकाना हक देने के लिए आवेदन वितरण बांटे। ऊर्जा मंत्री ने इस मौके कहा कि हमारी सरकार ने जो वादा किया था आज वो पूरा होने जा रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ये बड़ी सौगात JC Mill के श्रमिकों को दी है।

ये भी पढ़ें – Transfer : IAS अधिकारियों के तबादले, यहाँ देखें लिस्ट

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए ऊर्जा मंत्री एवं क्षेत्रीय विधायक प्रद्युम्न सिंह तोमर ने केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर , सांसद विवेक नारायण शेजवलकर, पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा का आभार जताया। उन्होंने कहा कि JC Mill  के मकानों में रह रहे श्रमिकों को सरकार पट्टे दे रही हैं।  अभी हम आवेदन पत्र दे रहे हैं इन्हें भरने के लिए समय दिया जाएगा और कोई परेशानी होगी तो प्रशासन के अधिकारी मदद करेंगे फिर न्यूनतम राशि जमकर मालिकाना हक़ दिया जायेगा।

ये भी पढ़ें – Gold Silver Rate : चांदी की कीमत में तेजी , सोना चार दिन पुराने रेट पर, जानिए ताजा भाव

गौरतलब है कि 1921 में स्थापित जयाजी रॉव कॉटन मिल (JC Mill) भारत की शान हुआ करती थी।  इसमें बना कपडा विदेशों तक निर्यात होता था।  मिल में 8 हजार से अधिक कर्मचारी काम करते थे। मिल प्रबंधन ने बिरलानगर क्षेत्र में श्रमिकों और अधिकारियों को रहने के लिए आवास दिए थे।  मिल के पास 700 बीघा जमीन थी लेकिन 1992 में मिल बंद हो गई उसके बाद श्रमिकों को वेतन, भत्ते सहित अन्य आपूर्तियों  के लिए संघर्ष करना पड़ा। श्रमिकों को उनके आवास चले जाने का भी खतरा था।

ये भी पढ़ें – Good News: मध्य प्रदेश के कर्मचारियों को जल्द मिलेगी सौगात, सैलरी में आएगा बंपर उछाल

लम्बी क़ानूनी प्रक्रिया के बाद तीन साल पहले JC Mill की 700 बीघा जमीन सरकारी घोषित हो गई और अब दशकों के संघर्ष के बाद श्रमिकों के चेहरे पर ख़ुशी की लहर आई है। बताया जा रहा है कि JC Mill के आवासों लाइन नंबर 1, 2, 8, अ(3) सिमको लाइन, असिस्टेंट लाइन, न्यू असिस्टेंट लाइन में रह रहे 711 परिवारों को मालिकाना हक़ पट्टे दिए जायेंगे।  ऊर्जा मंत्री ने एक और घोषणा करते हुए कहा कि तानसेन रोड पर बरसों से सड़क पर रह रहे लोहा पीटा समाज के 28 परिवारों को भी इसी सप्ताह पट्टे दिए जायेंगे।  कार्यक्रम की खास बात ये रही कि ऊर्जा मंत्री ने अपनी आदत के मुताबिक एक बुजुर्ग श्रमिक के पैरों में झुककर आशीर्वाद लिया।